पासा पलटाः देवेगौड़ा नहीं वजूभाई करेंगे फैसला

बेंगलुरु। कर्नाटक में किसकी सरकार बनेगी इसका फैसला राज्यपाल वजु भाई वाला को करना है और पूरे देश की निगाहें राजभवन पर टिकी है लेकिन आज इतिहास एक बार फिर पुराने घटनाक्रम की याद दिला रहा है। इस घटना का जिक्र भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राममाधव ने अपने फेसबुक पोस्ट में किया है।

बात 1996 की है जब एच डी देवेगौड़ा प्रधानमंत्री थे और श्री वजूभाई वाला उस समय गुजरात भाजपा के अध्यक्ष थे। गुजरात में भाजपा की सरकार थी और भाजपा नेता शंकर सिंह वाघेला ने पार्टी छोड़ने का एलान किया था। गुजरात में भाजपा सरकार को बहुमत साबित करना था लेकिन विधानसभा में काफी हंगामा हुआ, विपक्ष को विधानसभा अध्यक्ष ने सदन से बाहर कर दिया। इसके बाद राज्यपाल ने विधानसभा को भंग करने की सिफारिश केन्द्र से कर दी थी और तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री देवेगौड़ा ने विधानसभा भंग करने की सिफारिश राष्ट्रपति से कर दी।

बाइस साल पहले ये फैसला श्री देवेगौड़ा ने लिया था। उसके बाद भाजपा की सरकार चली गयी। एक साल बाद फिर भाजपा की सरकार बनी, उस समय भी श्री वजूभाई वाला गुजरात भाजपा के अध्यक्ष थे। अब स्थिति यह है कि सत्ता की चाबी श्री वजूभाई वाला के पास है और श्री देवेगौड़ा के पुत्र एच डी कुमार स्वामी सरकार बनाने का दावा पेश कर रहे हैं। अभी तक राज्यपाल की तरफ से कोई फैसला नहीं किया है। अब वही श्री वजूभाई वाला कर्नाटक सरकार का फैसला करेंगे।

 

927 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।