Loading... Please wait...

​​​​​​​वाष्प तकनीक से लौटेगी संसद भवन की चमक

नई दिल्ली। भारतीय लोकतंत्र के सर्वोच्च हस्ताक्षर में शामिल संसद भवन को उसके मूल रूप में बहाल करने का कार्य शुरू किया गया है जिसमें वाष्प तकनीक समेत विभिन्न वैज्ञानिक विधियों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे इस ऐतिहासिक इमारत के पत्थरों एवं उस पर उद्धृत कलाकृतियों को बगैर क्षति पहुंचाये उसका पुराना स्वरप बहाल करने में मदद मिलेगी।

संसद भवन के संरक्षण की पहल उस समय शुरु की गई है, जब उसकी बाहरी दीवारों पर लगे पत्थरों पर प्रदूषण और धूप का प्रभाव स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। संसद भवन का निर्माण कार्य वर्ष 1921 में शुरू किया गया था और यह वर्ष 1927 में बनकर तैयार हुआ था।

इंटेक के दिल्ली चैप्टर के एक अधिकारी ने कहा कि नई दिल्ली स्थित भारतीय संसद देश की सर्वोच्च विधायी संस्था है और संसद भवन स्थापत्य की दृष्टि से सबसे खूबसूरत भवनों में शामिल है। इस इमारत का निर्माण वृत्ताकार पथ के रूप में किया गया है जहां मध्य से तीन धूरियां निकलती हैं। संसद भवन और उसके परिसर में संसद भवन, इमारत का स्वागत कार्यालय, संसदीय ज्ञानपीठ, संसदीय सौंध, विस्तारित लॉन, तालाब और फब्बारे शामिल हैं। उन्होंने कहा कि इंटेक का दिल्ली चैप्टर खुले स्थान समेत संसदीय परिसम्पत्तियों के संरक्षण का कार्य कर रहा है। इस कार्य में सम्पूर्ण ढांचे के मूल रूप को बहाल करने की समग्र योजना पर अमल किया जा रहा है और इस उद्देश्य के लिये विभिन्न कला संरक्षकों की भी सलाह ली जा रही है। इसके तहत वैज्ञानिक तरीके से भवन के संरक्षण के साथ फर्नीचर, भवन में उकेरी गई कलाकृतियों, पेंटिंग एवं अन्य वस्तुओं के रख रखाव का कार्य भी शामिल है।

संसद भवन सचिवालय के एक अधिकारी ने बताया कि यह कार्य करीब एक महीने से चल रहा है और इसे भारतीय राष्ट्रीय कला एवं सांस्कृतिक धरोहर ट्रस्ट (इंटेक) और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के सहयोग से किया जा रहा है।

संसद भवन के रखरखाव का कार्य शुरू हो चुका है। संसद भवन की मुख्य इमारत के खम्भों समेत बाहरी दीवारों के संरक्षण का कार्य लगभग पूरा हो गया है। लेकिन सम्पूर्ण संसद भवन के संरक्षण एवं बहाली का कार्य पूरा होने में अभी समय लगेगा। ऐसा इसलिये है क्योंकि सत्र के दौरान संसद भवन खाली नहीं रहता है। संसद भवन के संरक्षण के अगले चरण में शेष बाहरी हिस्से और अन्दर के हिस्से को साफ किया जाएगा। इसके साथ ही पेंटिंग्स और टाइल्स को भी संरक्षित किया जाएगा।

इंटेक के अधिकारियों का कहना है कि संसद भवन की सफाई के लिये जिस तकनीक का उपयोग किया जा रहा है, उसके तहत वाष्प को एक विशेष तरह के साबुन की मदद से निर्धारित दबाव से पत्थरों पर डाला जाता है। इससे पत्थरों की धुलाई के साथ एक खास तरह की कोटिंग भी होती है।

इस पूरे अभियान के तहत इस बात का खास ध्यान रखा जाता है कि कामकाज के दौरान भवन का कोई भी हिस्सा खराब या क्षतिग्रस्त नहीं हो। संसद भवन के धरोहर स्थल होने के कारण संरक्षण कार्य के दौरान विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

Tags: , , , , , , , , , , , ,

45 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

मुख मैथुन से पुरुषों में यह गंभीर बीमारी

धूम्रपान करने और कई साथियों के साथ मुख और पढ़ें...

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd