Loading... Please wait...

ग्लोबल वार्मिंग से शीतलता में कमी

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में किए एक अध्ययन में यह पाया गया है कि भारत उन नौ सबसे अधिक आबादी वाले देशों में शामिल है जहां ग्लोबल वार्मिंग के चलते शीतलन की कमी के कारण स्वास्थ्य तथा जलवायु को खतरा बना हुआ है।

अध्ययन में पाया गया कि रणनीतिकारों को अपने देशों में तत्काल शीतलन तक पहुंच बढ़ाने के लिए कदम उठाना चाहिए, क्योंकि अधिक सक्रिय एवं एकीकृत नीति बनाने के लिए एक साक्ष्य आधार मौजूद है। ‘ सस्टेनेबल एनर्जी फॉर ऑल ‘ (एसई फॉर एएलएल) की कल जारी एक रिपोर्ट में कहा गया कि उद्योगपतियों , सरकारों और वित्तपोषकों को सभी के लिए टिकाऊ शीतलन समाधान प्रदान करने से मिलने वाली उत्पादकता , रोजगार और वृद्धि लाभ सहित विशाल वाणिज्यिक तथा आर्थिक अवसरों का आकलन करने एवं उस पर कार्य करने में सहयोग करना चाहिए। चिलिंग प्रोस्पेक्ट : सस्टेनेबल कूलिंग फॉर ऑल ’’ वैश्विक शीतलन की बढ़ती चुनौतियों एवं अवसरों का आकलन करने वाला यह पहला अध्ययन है।

502 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।