Loading... Please wait...

खसरे से मुकाबले में बहुत पीछे हैं भारत

माले। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि भारत और इंडोनेशिया खसरे के खिलाफ अपनी लड़ाई में बहुत पीछे हैं और दक्षिण-पूर्व एशिया में जिन बच्चों का टीकाकरण नहीं हुआ है, उनमें 90 फीसदी से ज्यादा बच्चे इन्हीं दोनों देशों के हैं। डब्ल्यूएचओ ने इस बात पर जोर दिया कि गलतफहमियों और गलत सूचनाओं के कारण इन देशों में टीकाकरण अभियान में बाधा आई है।

डब्ल्यूएचओ के दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्रीय कार्यालय के मुताबिक, 2016 में भारत में 31 लाख और इंडोनेशिया में 11 लाख बच्चों को खसरे का टीका नहीं लगाया गया। क्षेत्र में टीके से वंचित कुल बच्चों की संख्या में करीब 91 प्रतिशत बच्चे भारत और इंडोनेशिया में हैं । अकेले भारत में 67 फीसदी बच्चे टीके से वंचित हैं।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने हालात पर चिंता जताई है, क्योंकि खसरे से अब भी दुनिया भर में हर साल करीब 134,200 बच्चे जान गंवाते हैं, इनमें दक्षिण-पूर्व एशिया में 54,500 से ज्यादा बच्चे मौत के शिकार होते हैं। डब्ल्यूएचओ के दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र कार्यालय (सिएरो) के पारिवारिक स्वास्थ्य, लिंग एवं जीवनशैली मामलों के निदेशक पेम नामग्याल ने कार्यालय कीइ 70वीं क्षेत्रीय समिति की बैठक के इतर बताया, खसरे के उन्मूलन के लिए कोई वैश्विक लक्ष्य या बड़ी धनराशि नहीं है, लिहाजा देशों को इसके लिए धनराशि आवंटित करनी चाहिए, खासकर भारत और इंडोनेशिया को ऐसा करना चाहिए, जहां टीके से वंचित बच्चों की सबसे ज्यादा संख्या रहती है। उन्होंने कहा कि दोनों देश मालदीव और भूटान से बहुत पीछे हैं, जिन्हें खसरा मुक्त घोषित किया जा चुका है।

भारत और इंडोनेशिया, जिनकी आबादी क्रमश: एक अरब 30 करोड़ और 26 करोड़ 10 लाख है, दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र की सबसे ज्यादा आबादी वाले देश हैं।

Tags: , , , , , , , , , , , ,

107 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

मुख मैथुन से पुरुषों में यह गंभीर बीमारी

धूम्रपान करने और कई साथियों के साथ मुख और पढ़ें...

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd