Loading... Please wait...

महिलाएं सबसे ज्यादा दिल के रोगी

नई दिल्ली। डायग्नोस्टिक चेन एसआरएल डायग्नोस्टिक्स द्वारा किए गए लिपिड टेस्ट के परिणामों पर ताजा विश्लेषणों से पता चला है कि 41 प्रतिशत से अधिक महिलाओं का लिपिड प्रोफाइल असामान्य है, जिससे यह खतरनाक तथ्य सामने आया है कि भारत में महिलाएं भी दिल के रोगों की शिकार होती हैं।

एसआरएल डायग्नोस्टिक्स के अध्यक्ष (टेक्नोलॉजी एंड मेंटर-क्लीनिकल पैथोलॉजी) डॉ. अविनाश फडके ने कहा, भारत में हृदय रोगों की समस्या पिछले कुछ दशकों में तेजी से बढ़ी है। ज्यादातर महिलाएं स्तन कैंसर को लेकर चिंतित रहती हैं, लेकिन बड़ी तादाद में महिलाओं की मौत कैंसर की तुलना में हार्ट अटैक से होती है। भारत में हृदय रोग महिलाओं का नंबर वन दुश्मन है। हम सभी को समाज में इस तथ्य के बारे में मिलकर जागरूकता फैलानी चाहिए।

एसआरएल ने पूरे देश से प्राप्त हुए सैम्पल को चार जोन- पूर्व, पश्चिम, उत्तर, और दक्षिण में विभाजित किया। रिपोर्टों में खुलासा हुआ है कि भारत में दो जोन (उत्तर-33.11 प्रतिशत और पूर्व - 35.67 प्रतिशत) में ट्राइग्लिसराइड का असामान्य स्तर पाया गया है जबकि लो एचडीएल और हाई टोटल कॉलेस्टेरॉल लेवल के मामले में दक्षिण (34.15 प्रतिशत) और पश्चिम क्षेत्र (31.90 प्रतिशत) में ज्यादा दर्ज किए गए हैं।

सवेक्षण में खुलासा हुआ कि 46-60 वर्ष के उम्र-वर्ग की महिलाओं में हृदय रोग यानी सीवीडी के लिए बेहद नाजुक अवधि समझा जाता है और यही उम्र वर्ग लिपिड प्रोफाइल टेस्ट में गड़बड़ी (48 प्रतिशत) के उच्च स्तर का शिकार होता है। कुल मिलाकर अधिक ट्राइग्लिसराइड महिलाओं में असमान (32 प्रतिशत) पाए गए। दो क्षेत्र (उत्तर- 33.11 प्रतिशत और पूर्व - 35.67 प्रतिशत) में अन्य दो क्षेत्र की तुलना में ट्राइग्लिसराइड का ज्यादा असामान्य स्तर पाया गया।

असामान्य एचडीएल के ज्यादा मामले साउथ जोन की महिलाओं में देखे गए, जबकि वेस्टर्न जोन की महिलाओं में टोटल कॉलेस्टेरॉल लेवल (31.90 प्रतिशत) में असामान्यता का अधिक स्तर पाया गया। उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, भारत में हर साल होने वाले 1 करोड़ मौतों में से लगभग 20 लाख मौतें सकुर्लेटरी सिस्टम की वजह से होती हैं और इनमें से 40 प्रतिशत महिलाएं शामिल होती हैं। अधिक सैचुरेटेड फैट, चीनी और नमक की मात्रा, सब्जियों और साबुत अनाज के कम सेवन से मोटापे का खतरा बढ़ रहा है। साथ ही ज्यादा समय तक बैठे रहने, तनाव का स्तर बढ़ने और धूम्रपान का भारत में महिलाओं के हृदय स्वास्थ्य में गड़बड़ी के कारकों में अहम योगदान है।

 

Tags: , , , , , , , , , , , ,

100 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

अबु सलेम को उम्र कैद!

कोई 24 साल पहले मुंबई में हुए और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd