Loading... Please wait...

अपने कर्मों से धरती को बना सकते स्वर्ग : भट्ट

देहरादून। परमपिता-परमात्मा की जानकारी सद्गुरु की कृपा से होती है, यह जानकारी ही परमज्ञान है। यह कहना है निरंकारी संत ललित मोहन भट्ट का। वे रविावार को सत्संग भवन में आयोजित रविवारीय सत्संग कार्यक्रम में भक्तों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गुरु का वचन ही ज्ञान है और निरंकार इस ज्ञान से प्राप्त होता है। कहा कि कोई वस्तु हमारे पास हो ले​किन हम उसका लाभ तबतक नहीं उठा पाते जबतक हमें ज्ञान नहीं होता।

हमारे घर में दबी हुई दौलत हमारी कंगाली दूर नहीं कर सकती। जब वह प्रकट होती है, हमें प्राप्त होती है, तभी हम मालामाल होते हैं। इसी तरह से यह परमात्मा रूपी दौलत हमारे अंग-संग है, पर सद्गुरु का वचन ही इसका ज्ञान कराता है और तभी हम इसका आनन्द ले पाते है। इसी तरह जब हम परमपिता-परमात्मा को जान लेते है तो हमारी आत्मा जिसको काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार, जैसे ताकतवर दुश्मनों ने घेर रखा था, सब डर कर पीछे हट जाते हैं और एक प्रभु परमात्मा से नाता जुड़ता है।

एकता और मिलवर्तन के मर्म को समझते हुए उन्होंने कहा कि सभी के जीवन में एकता और मिलवर्तन आए। इस धरती को अगर हमने स्वर्ग बनाना है तो वो हम सिर्फ अपने कर्मों द्वारा ही बना सकते हैं। इस धरती पर स्वर्ग लाना है तो मिल-जुलकर रहना होगा, गिरते को उठाना होगा। अगर कोई रो रहा है तो उसके आंसू पोंछकर उसे खुशी देने होगी। मिल-जुलकर हम तभी रह पाएंगे जब हम अपने दिल विशाल बनाएंगे।

सद्गुरु की कृपा से ही इस सर्वशक्तिमान परमात्मा से नाता जुड़कर ही मनुष्य का हृदय विशाल बनता हैं। सत्संग समापन से पूर्व अनेकों संतों, भक्तों ने अपनी-अपनी भाषा का सहारा लेकर सत्संग को निहाल किया। मंच संचालन बहन शशि बिष्ट ने किया।

360 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech