Loading... Please wait...
ताजा पोस्ट सुर्खिया
काबुल में विस्फोट, 20 मरे, 300 घायल
चैंपियंस ट्रॉफी: भारत ने बांग्लादेश को 240 रनों से हराया
यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र दो साल बढ़ी
केरल में पशु वध पर सोनिया, राहुल से माफी की मांग
आरसीए चुनाव के परिणाम दो जून को घोषित किये जाये
बाबरी मामला : आडवाणी, जोशी व अन्य को जमानत मिली
बांग्लादेश में तूफान ‘मोरा’ ने दी दस्तक
आडवाणी, जोशी कोर्ट में पेश होने के लिए लखनऊ रवाना
सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल खतरे की घंटी: मैक्रोन
जापान में बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 घायल
रूस में तूफान, 11 मरे
मोदी ने की मर्केल से मुलाकात
भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज नहीं हो सकती: खेल मंत्री
बैल काटे जाने पर कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता निलंबित
पीएम मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

अपन तो कहेगें! ( हरिशंकर व्यास )

हर हिंदू करे पूजा, मांगे माफी!

ताकि राजा इंद्र के अहंकार, उसकी मूर्खता से विलुप्त हुई, पाताल चली गई महालक्ष्मी फिर हमारे बीच लौटें! करना होगा हमें प्रायश्चित! माफी मांगनी होगी हमें और पढ़ें....

तरस गया यह धनतेरस!

सुबह नजर गई अखबार के कार्टून कोने पर- हैप्पी धन तरस! जीएसटी से महंगाई की खबर पढ़ते हुए दो लोगों का एक-दूसरे से ‘हैप्पी तरस’ कहना! फिर भोपाल के न्यू और पढ़ें....

हिंदू दीये का मोदी उजियारा!

सवा सौ करोड़ लोग और दिवाली का बहीखाता! सवाल अपने आप उठेगा कि नए संवत साल का मुहूर्त, वक्त हम भारतीयों में क्या ख्याल बनाए हुए है? शुभ-लाभ का क्या विचार है? और पढ़ें....

तलाशें अर्थ, आशा और उमंग!

त्यो‍हार रोजमर्रा की जिंदगी में विश्राम होता है। उमंग और मनोयोग से आरती का वक्त होता है। आस्था, विश्वास, श्रद्धा, उत्साह का मिलाजुला वह पॉजिटिव और पढ़ें....

पाठक माई बाप माफ करें!

इसलिए कि मुझे नया इंडिया को हल्का, बेरंग बनाना पड़ा है। आपकी शिकायत सही है कि मेरा न तीन में और न पांच में वाला अखबार है बावजूद आप पक्के पाठक हैं! अखबार और पढ़ें....

लक्ष्मीजी कब तक रूठी रहेंगी?

क्या‍ नवंबर 2018 में दिवाली ठीक होगी? बहुत मुश्किल है! यों मैं न नरेंद्र मोदी की तरह हार्वर्ड-ऑक्सफोर्ड से भी ऊंचा सर्वज्ञ अर्थशास्त्री हूं और न ज्योतिषी। और पढ़ें....

चौतरफा रूठी हैं लक्ष्मीजी!

चाहे तो लक्ष्मीजी को रूठी मानें या वक्त खराब। यह जरूर तय है कि छोटे व्यापारियों-कारोबारियों का दिवाला निकलवाने वाली असंवेदनशीलता, घटनाएं चौतरफा है। और पढ़ें....

जीएसटीः मूर्खता घटाना राहत नहीं!

जीएसटी सरकार के लिए सौ प्याज और सौ जूते खाने वाला झंझट बना है और बना रहेगा। इसलिए कि सरकार वह नहीं करेगी जो जीएसटी की आत्मा है। दुनिया भर में जिस कारण और पढ़ें....

लक्ष्मी श्राप रातों रात खत्म नहीं होता!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर अपने को रोक नहीं पाए। अगले ही दिन बोला कि वे दिवाली जल्दी लिवा लाए! भगवान श्रीकृष्ण के शहर द्वारका में  अपने श्रीमुख से और पढ़ें....

इलहाम और ढाई लोगों की गर्वनेंस!

सोचने वाली बात है कि पांच-दस साल बाद देश-दुनिया में आज के भारत पर जब विचार होगा तो इस बात का क्या जवाब होगा कि बतौर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैसे थे? क्या और पढ़ें....

← Previous 123456789
(Displaying 1-10 of 226)

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd