nayaindia Greater Noida Authority fines Rs 10 lakh on contractor for negligence in maintenance of parks पार्कों की देखरेख में लापरवाह ठेकेदार पर 10 लाख का जुर्माना
उत्तर प्रदेश

पार्कों की देखरेख में लापरवाह ठेकेदार पर 10 लाख का जुर्माना

ByNI Desk,
Share

ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण (Greater Noida Authority) की तरफ से सेक्टर के पार्को (contractor) की देखरेख में लापरवाही बरतने पर ठेकेदार पर कार्रवाई करते हुए 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। साथ ही प्राधिकरण ने इस मामले में 2 सुपरवाइजर के खिलाफ भी कार्रवाई की है।

दरसअल, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में सेक्टर 36 के सेक्टर वासियों के द्वारा शिकायत दर्ज कराई गई थी कि सेक्टर में बने हुए पार्कों की हालत बदहाल हो रही है, ना तो पार्कों में साफ सफाई का कार्य हो रहा है, न पेड़ों को पानी नहीं दिया जा रहा है। पार्कों में लगे हुए झूले भी टूटे हुए हैं। इस बात को लेकर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों ने इसमें संज्ञान लिया। जिसके बाद अधिकारियों ने मौके पर जाकर जायजा लिया। मौके पर पाया कि जिस तरह की शिकायत लोगों के द्वारा की गई थी, वह सही थी और पार्को की हालत एकदम बदहाल थी।

सेक्टर वासियों द्वारा दी गई शिकायत को लेकर हॉर्टिकल्चर विभाग के सीनियर मैनेजर ने मौके का निरीक्षण करते हुए। खामियां पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई करते हुए पार्को की देखरेख करने वाली फर्म मास्टर इंटरप्राइजेज पर 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। इसके अलावा सुपरवाइजर और टेक्निकल सुपरवाइजर को भी नौकरी से निकाल दिया।

गौरतलब है कि प्राधिकरण आवासीय सेक्टरों के अंदर पार्को के रखरखाव के लिए 3 साल के लिए ठेकेदारों को लाखों रुपए का काम दिया हुआ है। यह ठेकेदार सही ढंग से काम कर रहे हैं या नहीं कर रहे, इसकी जांच के लिए प्राधिकरण ने टेक्निकल सुपरवाइजर को तैनात किया हुआ है। लेकिन सेक्टर 36 में यह कार्य सही तरीके से नहीं हो रहा था। सुपरवाइजर और टेक्निकल सुपरवाइजर भी इसके बारे में कोई सही जानकारी नहीं दे रहे थे। इसी को लेकर यह कार्रवाई की गई है। इससे दो दिन पहले ही सेक्टर बीटा 1 में भी पार्कों के देखरेख के कार्यों में लापरवाही बरतने पर ठेकेदार पर एक लाख रुपये का जुर्माना लग चुका है। (आईएएनएस)

 

Please follow and like us:
Pin Share

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें