nayaindia CBI Question Abhishek Banerjee In Bengal School Recruitment Scam सीबीआई ने बंगाल स्कूल भर्ती घोटाले में अभिषेक बनर्जी से पूछताछ
पश्चिम बंगाल

सीबीआई ने बंगाल स्कूल भर्ती घोटाले में अभिषेक बनर्जी से पूछताछ

May 20, 2023

कोलकाता।| केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने शनिवार को पश्चिम बंगाल (West Bengal) स्कूल भर्ती घोटाले (School Recruitment Scam) में तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) से पूछताछ शुरू की। बनर्जी सुबह 10 बजकर 55 मिनट पर केंद्रीय जांच एजेंसी के निजाम पैलेस कार्यालय पहुंचे और पूर्वाह्न् 11 बजकर 20 मिनट पर पूछताछ शुरू हुई। सूत्रों ने कहा कि सीबीआई की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा (ACB) की तीन सदस्यीय टीम उनसे पूछताछ कर रही है। टीम में एक-एक अधीक्षक, उपाधीक्षक और निरीक्षक शामिल हैं। मुख्य पूछताछ अधीक्षक और उप अधीक्षक द्वारा की जा रही है, निरीक्षक मुख्य रूप से कार्यवाही को नोट करने के लिए जिम्मेदार होगा। सूत्रों ने बताया कि सीबीआई (CBI) की टीम ने पांच पन्नों की एक प्रश्नावली के साथ जांच शुरू की, जिसे सीबीआई ने घोटाले के आरोपी और निष्कासित युवा तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) नेता कुंतल घोष (Kuntal Ghosh) के बयानों के आधार पर तैयार किया है।

ये भी पढ़ें- http://मोदी ने हिरोशिमा में महात्मा गांधी की प्रतिमा का किया अनावरण

मामले में बनर्जी का नाम तब सामने आया जब घोष ने एक स्थानीय थाने और सीबीआई की एक विशेष अदालत के न्यायाधीश को पत्र लिखकर आरोप लगाया गया कि केंद्रीय एजेंसियां मामले में पार्टी महासचिव का नाम लेने के लिए उस पर दबाव बना रही हैं। इस बीच, बनर्जी के वकीलों ने गुरुवार को कलकत्ता उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति अमृता सिन्हा (Amrita Sinha) की एकल-न्यायाधीश पीठ के फैसले को चुनौती देते हुए सर्वोच्च न्यायालय में एक विशेष अवकाश याचिका दायर की, जिसमें केंद्रीय एजेंसियों को उनसे पूछताछ करने की अनुमति दी गई थी। शनिवार की सुबह, बनर्जी ने खुद सीबीआई को एक पत्र लिखकर शीर्ष अदालत में विशेष अनुमति याचिका के बारे में सूचित किया। गुरुवार को आदेश पारित करते हुए न्यायमूर्ति सिन्हा ने अदालत का समय बर्बाद करने के लिए बनर्जी और घोष पर 25-25 लाख रुपये का जुमार्ना भी लगाया। बनर्जी के वकील ने शुक्रवार की सुबह, उच्च न्यायालय की दो खंडपीठों से संपर्क कर एकल न्यायाधीश की पीठ के आदेश को चुनौती दी और मामले में फास्ट-ट्रैक सुनवाई की भी अपील की। हालांकि, दोनों खंडपीठों ने याचिका खारिज कर दी। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें