कोरोना वायरस: भारतीय दूतावास की हेल्पलाइन नंबर जारी - Naya India
विदेश| नया इंडिया|

कोरोना वायरस: भारतीय दूतावास की हेल्पलाइन नंबर जारी

वाशिंगटन। अमेरिका में भारतीय दूतावास ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए नयी दिल्ली द्वारा हाल ही में लागू की गई यात्रा पाबंदियों पर सवालों का जवाब देने के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं जिन पर चौबीसों घंटे संपर्क किया जा सकता है।भारत में कोरोना वायरस से बृहस्पतिवार को पहली मौत हुई और इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 74 पर पहुंच गई है। चीन के वुहान शहर से शुरू हुए इस जानलेवा वायरस से दुनियाभर में 4,600 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 1,24,330 से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं।

दूतावास ने एक बयान में कहा कि उसने ‘‘ कोरोना वायरस फैलने के मद्देनजर भारत की यात्रा के लिए भारत सरकार द्वारा हाल ही में जारी यात्रा परामर्श के संबंध में सवालों का जवाब देने के लिए’’ हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं जिन पर चौबीसों घंटे संपर्क किया जा सकता है।

ये हेल्पलाइन नंबर वाशिंगटन डीसी के दूतावास तथा अटलांटा, शिकागो, न्यूयॉर्क, ह्यूस्टन और सैन फ्रांसिस्को के वाणिज्य दूतावासों से चलाए जा रहे हैं। भारत ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए राजनयिक और कामकाजी जैसी चुनिंदा श्रेणियों को छोड़कर 15 अप्रैल तक सभी वीजा निलंबित कर दिए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी कोविड-19 को महामारी घोषित कर दिया है।

भारत द्वारा यह निलंबन 13 मार्च को अंतरराष्ट्रीय समयानुसार दोपहर 12 बजे से प्रभावी होगा। एक आधिकारिक बयान में बुधवार को कहा गया, ‘‘ राजनयिक, आधिकारिक, संयुक्त राष्ट्र/ अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं, कामकाजी और प्रोजेक्ट वीजा के अलावा सभी मौजूदा वीजा 15 अप्रैल, 2020 तक निलंबित किए जाते हैं। यह 13 मार्च, 2020 को अंतरराष्ट्रीय समयानुसार दोपहर 12 बजे से सभी प्रस्थान बिन्दुओं पर प्रभावी होगा।’’ ओसीआई कार्डधारकों को प्राप्त वीजा मुक्त यात्रा की सुविधा भी 15 अप्रैल तक के लिए रोक दी गयी है।

दूतावास ने बयान में कहा कि हेल्पलाइन नंबर 202-213-1364 और 202-262-0375 पर बरमुडा, डेलवेयर, डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया, केंटुकी, मैरीलैंड, नॉर्थ कैरोलिना, वर्जीनिया और वेस्ट वर्जीनिया के लोग संपर्क कर सकते हैं। इन राज्यों में रहने वाले लोग [email protected] पर भी दूतावास से संपर्क कर सकते हैं। अलबामा, फ्लोरिडा, जॉर्जिया, मिसिसिपी, प्युर्तो रिको, साउथ कैरोलाइना, टेनेसी और वर्जिन आइलैंड के लोग हेल्पलाइन नंबर 404-910-7919 और 404-924-9876 तथा ईमेल आईडी [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। इलिनोइस, इंडियाना, आयोवा, मिशिगन, मिनेसोटा, मिसूरी, नॉर्थ डकोटा, साउथ डकोटा तथा विस्कोंसिन में रहने वाले लोग हेल्पलाइन नंबर 312-687-3642 और 312-468-3276 या ईमेल आईडी [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। अरकंसास, कंसास, लुइसियाना, ओकलाहोमा, टेक्सास, न्यू मैक्सिको, कोलराडो तथा नेब्रास्का के लिए जारी हेल्पलाइन नंबर 713-626-2149 तथा ईमेल आईडी [email protected] है। न्यूयॉर्क वाणिज्य दूतावास ने कनेक्टिकट, मेन, मैसाच्युसेट्स, न्यू हैम्पशायर, न्यू जर्सी, न्यूयॉर्क, ओहियो, पेन्सिलवेनिया, रोड आइलैंड तथा वर्मोन्ट राज्यों के लिए हेल्पलाइन नंबर 347-721-9243 और 212-774-0607 तथा ईमेल आईडी [email protected] जारी की है।

अलास्का, एरीजोना, कैलिफोर्निया, गुआम, हवाई, इदाहो, मोंटाना, नवादा, ओरेगन, उटाह,, वाशिंगटन तथा व्योमिंग के लोग 415-483-6629 पर फोन कर सकते हैं या ईमेल आईडी [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। सरकार ने भारतीयों को गैर जरूरी विदेश यात्रा ना करने की सलाह भी दी है।

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});