nayaindia Virginity test For Joining Army : लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट, 'टू फिंगर टेस्ट' के बाद
kishori-yojna
विदेश| नया इंडिया| Virginity test For Joining Army : लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट, 'टू फिंगर टेस्ट' के बाद

सेना में भर्ती के लिए लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट, ‘टू फिंगर टेस्ट’ के बाद ही तय होती थी योग्यता…

Virginity test For Joining Army :

नई दिल्ली | Virginity test For Joining Army : ​दुनिया भर के देशों में सेना में नौकरी पाने का अपना महत्व है. यहां नौकरी पाने के लिए प्रत्येक देश अपने अलग नियम बनाता है. इजराइल जैसे देश में सभी नागरिकों के लिए को फौज की नौकरी कुछ समय के लिए अनिवार्य होती है. इसी तरह प्रत्येक देशों में अपने अपने नियम हैं. ताजा मामला इंडोनेशिया से जुड़ा हुआ है जहां सेना भर्ती के लिए बनाए गए नियमों में एक बड़ा बदलाव किया गया है. सोशल मीडिया से लेकर इंडोनेशिया के लोगों तक सभी फैसले को स्वीकार कर रहे हैं. इंडोनेशिया के मानव अधिकार संगठन और विशेषकर महिलाएं इस फैसले से काफी खुश हैं. दरअसल, इंडोनेशिया में महिलाओं की सेना में भर्ती के लिए कड़े नियम थे. दूसरे शब्दों में कहें तो लड़कियों को सेना में भर्ती होने के लिए एक तरह से अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ता था.

Virginity test For Joining Army :

वर्जिनिटी टेस्ट का करना पड़ता था सामना

Virginity test For Joining Army : बता दें कि पहले इंडोनेशिया में लड़कियों को सेना में भर्ती के पहले वर्जिनिटी टेस्ट देना पड़ता था. इंडोनेशिया के एयरफोर्स में भर्ती के लिए लड़कियों को इस टेस्ट से गुजरना पड़ता था. यह नियम इंडोनेशिया में 1965 से लगातार जारी था जिसे अब खत्म कर दिया गया है. इस फैसले का स्वागत करते हुए इंडोनेशिया के लोगों ने कहा कि आज के समय में सलेक्शन का तरीका महिलाओं और पुरुषों का एक जैसा होना चाहिए. लोगों का कहना है कि इस तरह के नियम कई मायने में महिलाओं को जलील करने जैसे हैं.

इसे भी पढ़ें- PM मोदी ने दी नई सौगात, ‘व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी’ को किया लागू – पुरानी कार दिला सकती है यह लाभ

अब नहीं पड़ेगा हाइमन टूटने से फर्क

वर्जिनिटी टेस्ट के नियम से आजादी देने के बाद इंडोनेशिया सेना के प्रवक्ता ने कहा कि अब आर्मी में भर्ती होने वाली महिलाओं को राहत मिलेगी. उन्होंने कहा कि अब किसी भी लड़की के हाइमन टूटने से नौकरी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. बता दें कि इंडोनेशिया में इस टेस्ट को ‘टू फिंगर टेस्ट’ के रूप में जाना जाता था. जो इस टेस्ट में फेल हो जाती थी उन्हें आर्मी की भर्ती के योग्य नहीं माना जाता था.

इसे भी पढ़ें- ये कैसा प्यार : मां ने प्रेमी के साथ मिलकर कर दी अपने ही बेटे की हत्या, देख लिय़ा था आपत्तिजनक स्थिति में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven − 6 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
गश्त की 26 जगहों से पीछे हटी सेना!
गश्त की 26 जगहों से पीछे हटी सेना!