Afghani Women against Taliban : तालिबान के खिलाफ महिलाओं ने खोला मोर्चा....
विदेश| नया इंडिया| Afghani Women against Taliban : तालिबान के खिलाफ महिलाओं ने खोला मोर्चा....

तालिबान के खिलाफ महिलाओं ने खोला मोर्चा, डाल रही हैं ऐसी तस्वीरें …

Afghani Women against Taliban :

नई दिल्ली | Afghani Women against Taliban : तालिबान के अफगानिस्तान में कब्जा करने के बाद से हालात दिन पर दिन खराब ही हुए हैं. यहीं कारण है कि लोगों में अफगानिस्तान को छोड़ने के लिए जल्दबाजी दिख रही थी. लेकिन अब अफगानिस्तान की महिलाएं खुलकर विरोध करने लगी हैं. सोशल मीडिया साइट्स पर महिलाएं अब तालिबानों को सबक सिखाने के मूड में आ गई हैं. महिलाओं की आजादी पर प्रतिबंध लगाने के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब महिलाएं सोशल मीडिया में एक्टिव हैं. इस मोर्चे की शुरूआत डॉक्टर बहार जलाली ने की है. उनका कहना है कि तालिबान के द्वारा जो दुनिया को बताया जा रहा है वो सच नहीं हैं. उन्होंने कहा कि तालिबान चाहता है कि महिलाएं उनके पैरों की जूती बनकर रहे. लेकिन तालिबान में कभी भी ऐसा नहीं हुआ है.जलाली का कहना है कि अफगानिस्तान की महिलाएं हमेशा से कलरफुल कपड़े पहनती रही हैं.

अफगानिस्तान की असली संस्कृति बचाने के लिए शुरू हुई पहल

Afghani Women against Taliban : जलाली का कहना है कि अफगानिस्तान की महिलाओं ने काफी कुछ सह लिया है. उन्होंने कहा अभी भी कई महिलाएं इस मुहिम से जुड़ गई हैं. आने वाले समय में और भी महिलाओं की इससे जुड़ने की उम्मीद है. उनका मानना है कि जैसा तालिबानी कह रहे हैं कि महिलाओं को पर्दा में रहना होगा और उनके पोशाक सिर्फ बुर्का है. ये सब गलत है. अफगानिस्तान में महिलाएं हमेशा से ही कलरफुल कपड़े पहनती आई हैं. ऐसे में हम दुनिया के सामने सच्चाई लाना चाहते हैं.

इसे भी पढें – बहादुर : चौथी का छात्रा का अपहरण करने आए थे अपराधी, बाल से पिन खोल चुभाया उल्टे पैर भागे अपराधी…

पारंपरिक ड्रेस में डाल रहीं हैं तस्वीरें

Afghani Women against Taliban : बता दें कि इस मुहिम के तहत महिलाएं पारंपरिक ड्रेस पहनकर सोशल मीडिया में तालिबान की पोल खोलने में लगी हुई हैं. महिलाएं पारंपरिक वेश-भूषा में तैयार होकर पहली अपनी घरवालोें से ऐसी तस्वीरें खिंचवा रही हैं. बाद में सोशल मीडिया में डाल रही हैं. हालांकि तालिबान को महिलाओं के ये विरोध बिल्कुल पसंद नहीं आ रहा है. तालिबान ने कहा है कि इस तरह के विरोध को सही नहीं कहा जा सकता है. हम इन महिलाओं पर सख्त कार्रवाई करेंगे.

इसे भी पढें –बख्तियारपुर का नाम “बकवास” रखने की अपनी मांग को “बकवास” बताया, यह मेरा जन्मस्थान है – नीतिश कुमार

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow