cases Omicron in India भारत में ओमिक्रॉन के 24 मामले
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| cases Omicron in India भारत में ओमिक्रॉन के 24 मामले

भारत में ओमिक्रॉन के 24 मामले

cases Omicron in India

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 24 हो गई है। सोमवार को महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के दो नए मामले मिले, जिसके बाद देश में इस वैरिएंट से संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 24 हो गई। दुनिया के दूसरे देशों में भी ओमिक्रॉन के संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। ब्रिटेन में इस वैरिएंट से संक्रमितों की संख्या में 50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। भारत में भी रविवार को एक दिन में 18 नए वैरिएंट मिले, जबकि सोमवार को दो नए मरीज मिले। हालांकि अब भी ओमिक्रॉन के संदिग्ध मरीजों के अनेक सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजे गए हैं। cases Omicron in India

Read also मोदी-पुतिन ने दोस्ती की प्रतिबद्धता दोहराई

बहरहाल, सोमवार को नए वैरिएंट के दोनों केस महाराष्ट्र में मिले, जिसके बाद राज्य में ओमिक्रॉन से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ कर 11 हो गई। इसके बाद सबसे ज्यादा नौ मरीज राजस्थान में हैं। इनके अलावा कर्नाटक में दो और गुजरात व दिल्ली में एक-एक मरीज मिले हैं। सोमवार को दो नए केस मिलने के बाद महाराष्ट्र सरकार ने बताया कि राज्य के एक 37 साल के व्यक्ति में मामले की पुष्टि हुई है। वह 25 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से लौटा था। दूसरे केस की पुष्टि अमेरिका से लौटी एक 36 साल की महिला में हुई है।

मुंबई में संक्रमित मिले दोनों मरीज दोस्त बताए जा रहे हैं। हालांकि दोनों में किसी भी तरह का कोई लक्षण नहीं मिला है। यह भी बताया जा रहा है कि दोनों को फाइजर की वैक्सीन लगी है इसके बावजूद संक्रमित पाए गए हैं। दोनों के संपर्क में आए लोगों की भी पहचान कर ली गई है। खबर है कि पुणे के एक व्यक्ति में रविवार को ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई थी, लेकिन उसका सैंपल दोबारा जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा गया है। उसकी रिपोर्ट अभी नहीं आई है।

Read also राजनाथ ने सैन्य वार्ता को ऐतिहासिक बताया

इस बीच इंडियन कौंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च, आईसीएमआर और नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ वायरोलॉजी, एनआईवी के वैज्ञानिक कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट का अध्ययन कर रहे हैं। वैज्ञानिकों ने मुंबई के डोंबिवली में ओमिक्रॉन से संक्रमित व्यक्ति का सैंपल लिया और उसे पुणे की लैबोरेटरी में भेजा है। वहां सैंपल से ओमिक्रॉन को अलग करने की कोशिश की जा रही है। इससे नए वैरिएंट पर कोवीशील्ड और कोवैक्सीन का असर जानने में मदद मिलेगी। साथ ही कोरोना के दूसरे वैरिएंट्स से संक्रमित लोगों पर ओमिक्रॉन के असर को जाना जा सकेगा।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सपा और सहयोगियों की पहली सूची जारी
सपा और सहयोगियों की पहली सूची जारी