3.7 प्रतिशत खानपान के नमूने असुरक्षित - Naya India
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

3.7 प्रतिशत खानपान के नमूने असुरक्षित

नई दिल्ली। देश में पिछले साल एक लाख छह हजार खानपान के नमूनों की जांच की गयी जिनमें से 3.7 प्रतिशत यानी करीब चार हजार नमूनों को असुरक्षित पाया गया ।

भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) की अध्यक्ष रीता तेवतिया और मुख्य कार्यकारी अधिकारी पवन अग्रवाल ने आज संवाददाता सम्मेलन

में कहा कि जांच में मानकों के पूरा नहीं करने वाले नमूनों की संख्या अधिक है । उन्होंने कहा कि 16 प्रतिशत नमूनों को घटिया स्तर का पाया गया जो मानकों पर खड़े नहीं

उतरे जबकि 9.5 प्रतिशत वस्तुओं के पैकेट पर सही ढंग से छपाई नहीं की गयी थी । उन्होंने कहा कि लोगों को पैकेट बंद दूध मानकों को पूरा करे इसकी व्यवस्था की जा रही है और इसके लिए निगरानी बढा दिया गया है । जल्दी ही इस व्यवस्था को और बेहतर बनाया जायेगा ।

उन्होंने कहा कि 70-80 प्रतिशत दूध को सुरक्षित नहीं बताना उचित नहीं है । इससे लोगों में गलत संदेश जाता है । उन्होंने कहा कि खानेपीने की वस्तुओं की अधिक से अधिक जांच के लिए मोबाइल जांच प्रयोगशाला व्यवस्था को सुदृढ किया जा रहा है और इसकी संख्या में वृद्धि की जा रही है ।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});