हरियाणा के राशन डिपो में पहुंचा 3 महीने का पूरा राशन - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

हरियाणा के राशन डिपो में पहुंचा 3 महीने का पूरा राशन

नई दिल्ली। श्रमिकों एवं खाद्यान्नों के लिए राशन दुकानों पर निर्भर रहने वाले लोगों को राहत पहुंचाने के लिए हरियाणा सरकार ने राज्य के सभी राशन डिपो में खाद्यान्नों की अग्रिम खेत पहुंचा दी है।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा, “सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत तीन महीने का राशन डिपो में पहुंचा दिया गया है। सभी गुलाबी, पीला और खाकी कार्ड धारकों को दोगुना राशन निशुल्क दिया जाएगा। इस राशन में चीनी और सरसों का तेल भी शामिल है।

इसे भी पढ़े : प. बंगाल में 108 विदेशियों सहित 177 जमाती एकांतवास में : ममता बनर्जी

उन्होंने कहा, “इसके अलावा, राज्य सरकार ने फैसला किया है कि अब से, गरीबी रेखा से ऊपर (एपीएल) कार्ड धारक भी बाजार दरों की तुलना में कम दरों पर डिपो से राशन प्राप्त कर सकते हैं।हरियाणा राज्य के किसानों को आश्वस्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “उपज का एक-एक दाना राज्य सरकार द्वारा खरीदा जाएगा।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सरसों की 15 अप्रैल और गेहूं की 20 अप्रैल से होने वाली खरीद के लिए मंडियों और खरीद केंद्रों की संख्या में वृद्धि की घोषणा की। उन्होंने कहा, “गेहूं की खरीद के लिए मंडियों और खरीद केंद्र की संख्या 477 से बढ़ाकर 2000 की गई है और सरसों के 67 खरीद केंद्र से बढ़ाकर 140 खरीद केंद्र किए गए हैं, ताकि किसानों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।उन्होंने कहा, “इस समय जब सरकार और पूरा समाज कोविड-19 का मुकाबला कर रहा है, यह लोगों की जिम्मेदारी है कि वे स्वेच्छा से आगे आएं और समाज के गरीब तबके के लोगों की मदद करें।

इसे भी पढ़े : छत्तीसगढ़ में ‘डोनेशन ऑन व्हील्स’ अभियान की शुरुआत

उन्होंने राहत उपायों में जिला प्रशासन की सहायता के लिए गांवों और गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) का भी धन्यवाद किया। राज्य सरकार ने पिछले सात दिनों में 55 लाख खाद्य पैकेट और 3.50 लाख राशन पैकेट वितरित किए गए हैं। हरियाणा सरकार द्वारा किए गए आह्वान पर, समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों ने अब तक कोरोना रिलीफ फंड में लगभग 49 करोड़ रुपये का योगदान दिया है। राज्य सरकार के 150 कर्मचारियों ने मार्च का अपना 100 प्रतिशत वेतन का योगदान दिया है, वहीं 1.82 लाख कर्मचारियों ने एक प्रतिशत से लेकर 100 प्रतिशत तक वेतन का योगदान दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि फसल कटाई को लेकर हरियाणा में ट्रैक्टर व कंबाइन हार्वेस्टर इत्यादि मशीनरी की आवाजाही में दिक्कत नहीं होगी, बल्कि इस मशीनरी के साथ आने वाले लोगों के आवश्यक टेस्ट करवाते हुए तथा सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र और पंजाब से कुछ कंबाइन हार्वेस्टर मशीनें हरियाणा में आ चुकी हैं और इसके अलावा, हरियाणा में 4500 कंबाइन हार्वेस्टर मशीनें हैं। ऐसी सभी मशीनों व वाहनों की वर्कशॉप और एजेंसी को खुले रहने के भी निर्देश दिए गए हैं, ताकि फसल कटाई में किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कार्तिक आर्यन ने ‘धमाका’ के लिए 20 करोड़ की फीस
कार्तिक आर्यन ने ‘धमाका’ के लिए 20 करोड़ की फीस