भारत में साइबर हमलों में 37 प्रतिशत वृद्धि : रिपोर्ट

नई दिल्ली। भारत में साइबर हमलों के मामले में पिछले साल की चौथी तिमाही के मुकाबले इस साल 2020 की पहली तिमाही में 37 प्रतिशत की वृद्धि देखने को मिली है। एक नई रिपोर्ट से आज इस बात की जानकारी मिली है।

कैस्पर स्काई सिक्योरिटी नेटवर्क (केएसएन) की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में इसके प्रोडक्ट्स ने इस साल जनवरी से मार्च के बीच 52,820,874 स्थानीय साइबर खतरों का पता लगाकर इन्हें रोका।

डेटा केअनुसार, वैश्विक स्तर पर वेब-थ्रेट की रैंक में भारत का स्थान 27वां है। कंपनी द्वारा इस बाबत प्राप्त की गई जानकारी के अनुसार, पिछले साल 2019 की चौथी तिमाही में भारत का रैंक 32वें स्थान पर था। कैस्पर स्काई ग्रीन एशिया पेसिफिक में सीनियर सिक्योरिटी रिसर्चर सौरभ शर्मा ने कहा, 2020 की पहली तिमाही में (साइबर) हमलों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। वर्तमान परि²श्य में हम साइबर गतिविधियों में वृद्धि देख रहे हैं, वह भी विशेष रूप से एशिया प्रशांत क्षेत्र में, ऐसे में दूसरी तीमाही में भी हमलों के आगे और भी बढ़ने की संभावना है।

भारत में 2020 की पहली तिमाही में हुए हमलों (52,820,874) के स्थानीय खतरों की संख्या से पता चलता है कि यूएसबी ड्राइव, सीडी व डीवीडी और अन्य ऑफलाइन विधियों के माध्यम से फैले मैलवेयर द्वारा कितनी बार यूजर्स पर हमला किया जाता है। कंपनी के अनुसार, वर्ष 2019 की चौथी तिमाही में इस प्रकार के स्थानीय खतरों (लोकल थ्रेट) की संख्या 40,700,057 रही। रिपोर्ट में कहा गया कि देश में होस्ट किए गए सर्वरों के कारण हुए हमलों की संख्या में भी भारत दुनिया भर में 11 वें स्थान पर है। साल 2019 की चौथी तिमाही की 854,782 घटनाओं की तुलना में 2020 की पहली तिमाही में यह बढ़कर 2,299,682 रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares