कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश | बिहार

Covid 19 India Death Record : 6 हजार 148 मौत के साथ सबसे घातक 9 June, पूरी दुनिया में एक दिन में सर्वाधिक मौतों का रिकार्ड अब भारत के नाम

नई दिल्ली | कोरोना वायरस से सबसे अधिक मौतें ​एक दिन के मामले में भारत ने एक नया रिकार्ड बनाया (Highest Number of Covid Death in a Day) है। सरकारी आंकड़ों की मानें तो बुधवार यानि कि सिर्फ 9 जून को ही कोरोना से 6 हजार 148 लोगों की मौत हो गई। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटों में, भारत ने पिछले 24 घंटों में 94,052 COVID-19 मामले और 6,148 मौतें (एक दिन में सबसे अधिक) दर्ज की हैं। पहले यह रिकार्ड अमेरिका के नाम था, वहां पर 12 फरवरी 2021 को एक दिन में 5 हजार 444 मौतें हुई थी। हालांकि सरकार का कहना है कि लगातार दूसरे दिन भारत में नए मामलों की संख्या एक लाख से कम रही है। परन्तु मौतों के नए रिकार्ड ने एक बड़ा सवाल उठा दिया है। पूरी दुनिया में भारत से एक दिन में कोरोना मरीजों की इतनी अधिक संख्या रिकार्ड होना चर्चा का विषय बन गया है।

अध्ययन में चौंकाने वाला खुलासा! वैक्सीन की दोनों डोज लेने के बाद भी संक्रमित कर सकता है कोरोना का ‘Delta’ Variant

भारत ने गुरुवार को दुनिया में कोविड ​​​​-19 से सबसे अधिक एकल-दिवसीय मृत्यु की सूचना दी। इसने एकबारगी लोगों को हैरत में डाल दिया है कि क्या वाकई में एक दिन में यह मौतें हुई है या राज्य सरकारों ने अपने आंकड़े संशोधित किए हैं। यदि हम पूरी टेबल को देखें तो लगता है कि बिहार ने अपने आंकड़ों को संशोधित करने के बाद घर पर या निजी अस्पतालों में बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए कोविड मौतों में संशोधन किया है।

Rajasthan में 24 घंटे में मिले सिर्फ 520 नए कोरोना संक्रमित, आज से फिर दौड़ेगी रोडवेज बसें

भारत के सबसे गरीब राज्यों में से एक, बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को अपने कुल कोविड 19 से संबंधित मरने वालों की संख्या को संशोधित करके लगभग 5,400 से 9,400 से अधिक कर दिया। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 94,052 की वृद्धि के बाद भारत का कुल COVID-19 केस लोड अब 29.2 मिलियन है, जबकि कुल मृत्यु 359,676 हैं।

बिहार में कोविड -19 मौतों की संख्या को बुधवार को राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा काफी संशोधित किया गया था, जिसने महामारी से होने वाली कुल मौतों की संख्या 9,429 कर दी थी। विभाग के अनुसार, जिसने पिछले दिन तक मौतों की संख्या 5,500 से कम बताई थी, सत्यापन के बाद मौतों की संख्या में 3,951 मौतों को जोड़ा गया है।

पिछले 24 घंटों में 17,321 मामलों की रिपोर्ट के साथ, तमिलनाडु राज्य की सूची में सबसे आगे है। इसके बाद केरल में 15,204 नए संक्रमण हैं। महाराष्ट्र में 10,989 मामले सामने आए। कर्नाटक 10,959, और आंध्र प्रदेश 8,766 मामले। दिल्ली में 337 और पश्चिम बंगाल में 5,384 नए मामले सामने आए। कुल मामलों से सबसे अधिक प्रभावित पांच राज्य महाराष्ट्र (5,863,880), कर्नाटक (2,728,248), केरल (2,673,166), तमिलनाडु (2,292,025), आंध्र प्रदेश (1,779,773) हैं।

विश्व कोरोनावायरस अपडेट

कोविड -19 दुनिया भर में फैल रहा है, 175 मिलियन से अधिक पुष्ट मामलों और लगभग 200 देशों में 3,776,238 मौतें दर्ज की गई हैं क्योंकि चीन ने दिसंबर 2019 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को अपना पहला मामला दर्ज किया था। यू.एस. 34,264,650 के साथ सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना हुआ है, इसके बाद भारत, ब्राजील, फ्रांस और तुर्की का स्थान है।

By अजीत द्विवेदी

पत्रकारिता का 25 साल का सफर सिर्फ पढ़ने और लिखने में गुजरा। खबर के हर माध्यम का अनुभव। ‘जनसत्ता’ में प्रशिक्षु पत्रकार से शुरू करके श्री हरिशंकर व्यास के संसर्ग में उनके हर प्रयोग का साक्षी। हिंदी की पहली कंप्यूटर पत्रिका ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, टीवी के पहले आर्थिक कार्यक्रम ‘कारोबारनामा’, हिंदी के बहुभाषी पोर्टल ‘नेटजाल डॉटकॉम’, ईटीवी के ‘सेंट्रल हॉल’ और अब ‘नया इंडिया’ के साथ। बीच में थोड़े समय ‘दैनिक भास्कर’ में सहायक संपादक और हिंदी चैनल ‘इंडिया न्यूज’ शुरू करने वाली टीम में सहभागी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य

31 जुलाई तक 12वीं के नतीजे देने होंगे

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों को निर्देश दिया है कि वे 12वीं की बोर्ड परीक्षा के नतीजे 31 जुलाई तक जारी कर दें। अदालत ने आंध्र प्रदेश में 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा कराने को लेकर गहरी नाराजगी जताई, जिसके बाद राज्य सरकार ने आनन-फानन में परीक्षा रद्द करने का ऐलान किया। सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं की परीक्षा को लेकर दायर याचिका पर गुरुवार को सुनवाई की और सभी राज्य शिक्षा बोर्ड्स को निर्देश दिया कि वे 31 जुलाई तक 12वीं कक्षा के नतीजे घोषित करें। अदालत ने उन्हें 10 दिन में इंटरनल असेसमेंट स्कीम तैयार करने के लिए भी कहा है।

इससे पहले सर्वोच्च अदालत ने पूरे भारत में सभी राज्यों के बोर्ड्स के लिए असेसमेंट की एक जैसी योजना बनाने के संबंध में आदेश पारित करने से इनकार कर दिया। अदालत ने कहा कि राज्य और उनके बोर्ड अपनी नीति बनाने को स्वतंत्र और स्वायत्त हैं। इसलिए उनके अधिकार क्षेत्र में दखल नहीं देंगे। एडवोकेट अनुभा सहाय श्रीवास्तव ने याचिका दायर कर मांग की थी कि राज्यो की 12वीं कक्षा की परीक्षा पर रोक लगाई जाए। याचिका लंबे समय से लंबित थी। इस दौरान कई राज्यों ने परीक्षाएं रद्द करने का फैसला कर लिया था।

सिर्फ आंध्र प्रदेश में जुलाई में परीक्षा कराने की तैयारी की जा रही थी। इसे लेकर भी सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी, जिस पर गुरुवार को सुनवाई हुई। इस दौरान अदालत ने सख्त लहजे में चेतावनी देते हए कहा कि अगर एक भी बच्चे को कुछ हुआ, तो राज्य सरकार को इसका खामियाजा भुगताना पड़ेगा। अदालत ने कहा कि अगर किसी की भी मौत हुई है तो राज्य सरकार को एक करोड़ का मुआवजा चुकाना पड़ सकता है। अदालत के सख्त रुख को देखते हुए आंध्र प्रदेश सरकार ने परीक्षा रद्द करने का फैसला किया।

By अजीत द्विवेदी

पत्रकारिता का 25 साल का सफर सिर्फ पढ़ने और लिखने में गुजरा। खबर के हर माध्यम का अनुभव। ‘जनसत्ता’ में प्रशिक्षु पत्रकार से शुरू करके श्री हरिशंकर व्यास के संसर्ग में उनके हर प्रयोग का साक्षी। हिंदी की पहली कंप्यूटर पत्रिका ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, टीवी के पहले आर्थिक कार्यक्रम ‘कारोबारनामा’, हिंदी के बहुभाषी पोर्टल ‘नेटजाल डॉटकॉम’, ईटीवी के ‘सेंट्रल हॉल’ और अब ‘नया इंडिया’ के साथ। बीच में थोड़े समय ‘दैनिक भास्कर’ में सहायक संपादक और हिंदी चैनल ‘इंडिया न्यूज’ शुरू करने वाली टीम में सहभागी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *