nayaindia Samastipur Bank Robbery: तमंचे पे डिस्को कराते हुए दिनदहाड़े सेंट्रल ....
kishori-yojna
ताजा पोस्ट | देश | बिहार| नया इंडिया| Samastipur Bank Robbery: तमंचे पे डिस्को कराते हुए दिनदहाड़े सेंट्रल ....

तमंचे पे डिस्को कराते हुए दिनदहाड़े सेंट्रल बैंक से 65 लाख लूट ले गए बदमाश, लेकिन..

Bank Robbery America Police : 

समस्तीपुर | Samastipur Bank Robbery: बिहार में एक बार फिर से अपराधियों के हौसले बुलंद हो गए हैं। जिसके चलते हर रोज कहीं न कहीं से बड़ी-बड़ी आपराधिक घटनाएं सामने आ रही हैं। अब समस्तीपुर जिले में बदमाशों ने बैंक में ही डाका डाल दिया और 65 लाख रुपये लूट कर भाग निकले।

ये भी पढ़ें:- ब्रह्मपुत्र नदी में डूब रही महिला सहित 4 बच्चों को बीएसएफ ने बचाया

जानकारी के अनुसार, जिले के रोसड़ा थाना क्षेत्र के ऐरौत गांव स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शाखा से सोमवार को बदमाशाने ने तमंचे पर डिस्कों कराते हुए लगभग 65 लाख रुपये की लूट को अंजाम दिया है। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची और बदमाशों की तलाश में नाकाबंदी करवाई गई।

ये भी पढ़ें:- धनबाद में कोयला कारोबारी की हत्या, लोगों में दहशत

एक बदमाश लोगों के हत्थे चढ़ा
Samastipur Bank Robbery: जानकारी के अनुसार, आज सुबह बैंक खुलते ही 3 अलग-अलग बाइक पर सवार होकर 5 बदमाश बैंक में घुसे और तमंचे की नौक पर 65 लाख रुपए से अधिक की लूट करते हुए वहां से भागने लगे। इसी दौरान भाग रहे बदमाशों में से एक को लोगों ने पीछा करते हुए मुरादपुर गांव के पास पकड़ लिया और पोल से बांधकर उसकी धुनाई कर दी।

ये भी पढ़ें:- जयंत मलैया के अमृत महोत्सव में भाजपा नेताओं का जमावड़ा

पकड़े गए अपराधी से पूछताछ में जुटी पुलिस
Samastipur Bank Robbery: पुलिस ने पकड़े गए बदमाश के पास से लूट के करीब 10 लाख रुपये और एक देसी कट्टा बरामद किया है। पुलिस अब इससे पूछताछ कर बाकी साथियों की तलाश में जुटी हुई है। पुलिस ने कड़ी मशक्क़त के बाद पकड़े गए अपराधी को लोगों के छुड़ाया। अब पुलिस इसके बाकी साथियों को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही हैं।

ये भी पढ़ें:- 2024 के लिए एक ‘विकल्प’ की कवायदः अखिलेश यादव

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen + two =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कांग्रेस ‘चमचों का दरबार’
कांग्रेस ‘चमचों का दरबार’