यूपी का विधानसभा चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी उत्तर प्रदेश में आगामी 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ेगी। आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कल यह घोषणा की। केजरीवाल के मुताबिक यूपी के लोग आम आदमी पार्टी को एक बार मौका देकर देखें। उन्होंने कहा कि मैं यकीन दिलाता हूं कि उत्तर प्रदेश वाले बाकी सारी पार्टियों को भूल जाएंगे।

अरविंद केजरीवाल ने कहा, यूपी के लोग भी दिल्ली की तरह मुफ्त बिजली, अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाएं चाहते हैं। गंदी राजनीति और भ्रष्ट नेता, यूपी को प्रगति की राह पर चलने से रोक रहे हैं।

इसीलिए यूपी में स्वास्थ्य, शिक्षा और बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओं का बुरा हाल है। उन्होंने कहा कि, यूपी के लोगों ने हर पार्टी पर विश्वास करके उनको मौका दिया, लेकिन उन्होंने उनके पीठ में छूरा घोंपा। हर पार्टी की सरकार ने पिछली सरकार के भ्रष्टाचार का रिकॉर्ड तोड़ दिया। आज यूपी की राजनीति में सही और साफ नियत की कमी है और यह केवल आम आदमी पार्टी के पास है।

इसी साफ नियत से हमने दिल्ली को बदलकर दिखाया है। दिल्ली के लोगों ने आम आदमी पार्टी को एक मौका दिया था और आज बाकी पार्टियों को भूल चुके हैं। आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने यूपी के लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप भी एक मौका देकर देखिए। मैं यकीन दिलाता हूं कि आप भी बाकी पार्टियों को भूल जाएंगे।

केजरीवाल ने कहा कि, हमने जन आंदोलन से पार्टी बनाई थी। हमने दिल्ली में तीन बार सरकार बनाई है और पंजाब में मुख्य विपक्ष के रूप में उभरे हैं, लेकिन मैं एक महत्वपूर्ण ऐलान करने जा रहा हूं। आम आदमी पार्टी आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेगी। दिल्ली में यूपी के बहुत भाई-बहन रहते हैं। जब से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की तीसरी बार सरकार बनाई गई है। दिल्ली में रहने वाले कई यूपी के लोग मेरे पास आए।

यूपी से भी बहुत सारे लोग और बहुत सारे संगठन हमारे पास आ रहे हैं और कह रहे हैं कि हमें यूपी का चुनाव लड़ना चाहिए। आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, यूपी में हर पार्टी की सरकार आई है, लेकिन अपने घर भरने के सिवाय किसी ने यूपी के लिए कुछ नहीं किया। आज छोटी-छोटी सुविधाओं के लिए यूपी के लोगों को दिल्ली क्यों आना पड़ता है। अगर कानपुर में रहने वाले किसी परिवार के बच्चे को अच्छा कॉलेज चाहिए, तो उसे दिल्ली भेजना पड़ता है।

गोरखपुर में रहने वाले किसी गरीब परिवार को अपने माता-पिता का इलाज करवाना है, तो उसे दिल्ली आना पड़ता है। आखिर क्यों। क्या भारत का सबसे बड़ा राज्य भारत का सबसे बड़ा विकासशील और विकसित राज्य नहीं बन सकता है। मैं पूछना चाहता हूं कि अगर दिल्ली के संगम विहार में मोहल्ला क्लीनिक बन सकता है, तो क्या लखनऊ के गोमती नगर में मोहल्ला क्लीनिक नहीं बना सकता है।

अगर दिल्ली के सरकारी अस्पताल देश के सबसे बेहतरीन अस्पताल बन सकते हैं, तो यूपी के सरकारी अस्पतालों की हालत इतनी खराब क्यों है। अगर दिल्ली के लोगों को 24 घंटे बिजली मिल सकती है, तो यूपी के लोग इतने लंबे-लंबे पावर कट क्यों बर्दाश्त करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares