nayaindia Murder of Shinzo Abe : पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक...
kishori-yojna
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Murder of Shinzo Abe : पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक...

पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की हत्या के बाद निधन, 9 जुलाई को एक दिन का राष्ट्रीय शोक…

Murder of Shinzo Abe :
Image Source : Social Media

नई दिल्ली | Murder of Shinzo Abe : जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे का एक चुनावी कार्यक्रम के दौरान शुक्रवार को गोली मारे जाने के बाद निधन हो गया. सरकारी प्रसारणकर्ता एनएचके ने उक्त जानकारी दी. इसके बाद से दुनियाभर में शोक व्याप्त हो गया है और लगातार बड़े नेता उनके निधन पर शोक वयक्त कर रहे हैं. इसी क्रम में देश की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शिंजो आबे के निधन पर शोक वयक्त किया. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि शिंजो आबे एक महान, वैश्विक, उत्कृष्ट राजनेता और एक अद्भुत प्रशासक थे: आगे उन्होंने कहा कि उन्होंने जापान और दुनिया को एक बेहतर स्थान बनाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. उन्होंने इस बात की भी घोषणा कर दी कि जापान के पूर्व प्रधानमंत्री आबे के प्रति हमारे गहरे सम्मान के प्रतीक के तौर पर नौ जुलाई को एक दिन का राष्ट्रीय शोक रखा जायेगा.

राहुल गांधी ने किया योगदान को याद

Murder of Shinzo Abe : शिॆंजो आबे के निधन पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत-जापान संबंधों को मजबूती देने में उनके योगदान को याद किया. राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के निधन से दुखी हूं. भारत और जापान के बीच रणनीतिक साझेदारी को मजबूत बनाने में उनकी भूमिका सराहनीय थी. वह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपने पीछे एक मजबूत विरासत छोड़ गए हैं। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और जापान की जनता के साथ हैं.

इसे भी पढें- विराट कोहली की बडी मुश्किलें, युवा प्लेयर्स का प्रर्दशन देख…..

भाषण शुरू करने के बाद मारी गई गोली

Murder of Shinzo Abe : जानकारी के अनुसार शिंजो आबे जिनकी उम्र 67 वर्ष थी को पश्चिमी जापान के नारा में शुक्रवार को भाषण शुरू करने के कुछ मिनटों बाद ही गोली मार दी गयी. उन्हें विमान से एक अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी सांस नहीं चल रही थी. उनकी हृदय गति रुक गयी थी. अस्पताल में बाद में उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. इस घटना के बाद से विश्वभर के लोगों द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि देने का सिलसिला जारी है.

इसे भी पढें-‘गलाकाट’ प्रचलन: साम्प्रदायिक व धार्मिक उन्माद के पीछे कौन…?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + five =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राज्यों की यात्राओं का असर नहीं
राज्यों की यात्राओं का असर नहीं