पर्यटन स्थल पर लौटेगी रौनक, 3 महीने बाद खोल दी गई अजंता-एलोरा की गुफाएं - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | महाराष्ट्र| नया इंडिया|

पर्यटन स्थल पर लौटेगी रौनक, 3 महीने बाद खोल दी गई अजंता-एलोरा की गुफाएं

औरंगाबाद |  कोरोना के मामलों में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है। राज्य सरकारें भी अनलॉक की प्रक्रिया में छूट दे रही है। अब धीरे-धीरे पर्यटन स्थल भी खुलने लगे है। महाराष्ट्र में कोरोना नियंत्रण होने के बाद एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी कि आज यानी 17 जून से अजंता-एलोरा की गुफाएं समेत तीन अन्य ऐतिहासिक स्थल पर्यटकों के लिए खोल दिए जाएंगे। एतिहासिक स्थल पिछले तीन माह से कोरोना के कारण बंद है। औरंगाबाद को महाराष्ट्र का पर्यटन राजधानी कहा जाता है लेकिन कोरोना महामारी की वजह से औरंगाबाद के सभी पर्यटन स्थल बंद थे।

Travel guide: ajanta and ellora caves to reopen for tourists from june 17 ticket booking online know the epidemiological guidelines tourist should follow - पर्यटकों के लिए खुशखबरी, आज से खुलेंगी अजंता-एलोरा

also read: उत्तराखंड में गुलज़ार होने लगे धार्मिक स्थल, नैनीताल में खुले मां नयना देवी के कपाट

लॉकडाउन के कारण दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं

औरंगाबाद के पर्यटन स्थल खुलने के निर्णय के बाद छोटे कारोबारियों का कहना है कि वह लॉकडाउन से पहले रोजाना 500 से 800 रुपये का धंधा कर लेते थे, लेकिन लॉकडाउन के बाद से ही यह लोग दो वक्त के रोजी-रोटी के मोहताज हो गए हैं। पर्यटन स्थल के खुले रहने से कई लोगों के घर चलते थे। बहुत से लोगों का रोजी-रोटी का यही एकमात्र साधन था। गाइड, आस-पास छोटी दुकानें चलाने वाले, और भी बहुत से लोग इन स्थलों से ही कमाते है। ऐसे में कारोबारियों का कहना है कि पिछले लॉकडाउन के बाद काम पटरी पर आया था लेकिन फिर से लॉकडाउन लगने से खाना भी नसीब नहीं हो रहा है। कोरोना ने रोजी-रोटी पर वार किया है। कई परिवार ऐसे भी है जिनका काम इन पर्यटन स्थलों से चलता था लेकिन लॉकडाउन ने सब कुछ बर्बाद कर दिया।

2,000 पर्यटकों को अनुमति, बुकिंग ऑनलाइन होगी

जिला प्रशासन ने बीबी का मकबरा, औरंगाबाद गुफा, दौलताबाद किला समेत इन पांच ऐतिहासिक स्थलों पर दर्शकों की मौजूदगी की संख्या की सीमा भी तय की है। यहां सुबह और दोपहर में दो सत्रों में 2,000 पर्यटक ही आ सकते हैं और टिकटों की बुकिंग ऑनलाइन होगी और पर्यटकों को महामारी संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। संक्रमण के मामलों में गिरावट के बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने सभी केंद्रीय संरक्षित इमारतों, स्थलों और संग्रहालयों को बुधवार से खोलने की घोषणा की है। अधिकारी ने बताया कि एएसआई के आदेश के बाद औरंगाबाद जिला आपदा एवं प्रबंधन अथॉरिटी प्रमुख और जिला कलेक्टर सुनील चव्हाण ने 17 जून से औरंगाबाद में पर्यटन स्थलों को खोलने को हरी झंडी दिखा दी। हालांकि, औरंगाबाद जिले में एएसआई के दायरे में आने वाले मंदिर और अन्य धार्मिक स्थल बंद रहेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow