nayaindia Aligarh Dharma Sansad postponed अलीगढ़ की ‘धर्म संसद’ स्थगित
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Aligarh Dharma Sansad postponed अलीगढ़ की ‘धर्म संसद’ स्थगित

अलीगढ़ की ‘धर्म संसद’ स्थगित

Aligarh Dharma Sansad postponed

नई दिल्ली। हरिद्वार की ‘धर्म संसद’ में नफरत फैलाने वाले भाषण देने के आरोप में गिरफ्तार यती नरसिंहानंद की मुश्किलें बढ़ गई हैं। उसके साथ ही इस कथित धर्म संसद में शामिल कई धर्मगुरुओं की भी मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। शुक्रवार को अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने संविधान और सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ कथित टिप्पणी के लिए ‘धर्म संसद’ के नेता यति नरसिंहानंद के खिलाफ अवमानना कार्रवाई शुरू करने की मंजूरी दी है। इसके बाद अलीगढ़ में 22-23 जनवरी को होने वाली ‘धर्म संसद’ को टाल दिया गया है। Aligarh Dharma Sansad postponed

इसे टालने का कारण कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को बताया गया है लेकिन माना जा रहा है कि हरिद्वार के कार्यक्रम के बाद हुए विवाद को देखते हुए अलीगढ़ का कार्यक्रम स्थगित किया गया है। इसके अलावा 17 दिसंबर को दिल्ली में हुए हिंदू युवा वाहिनी के एक कार्यक्रम में भड़काऊ, सांप्रदायिक बयान देने पर सुदर्शन न्यूज के सुरेश चह्वाणके के खिलाफ दायर याचिका भी दिल्ली की साकेत कोर्ट ने सुनवाई के लिए स्वीकार कर ली है। इस मामले की सुनवाई 27 जनवरी को होगी।

Read also मुंबई में भीषण आग, छह की मौत

इस बीच अलीगढ़ में प्रस्तावित दो दिन के ‘धर्म संसद’ की आयोजक महामंडलेश्वर अन्नपूर्णा भारती ने कहा कि चुनाव के पहले चरण और कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण इसे टालने का फैसला किया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि सबसे बड़ी बात है कि दो धर्म योद्धा, यति नरसिंहानंद और जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी जेल में हैं। धर्म संसद टालने के इस फैसले को एक दिन पहले ही अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने यति नरसिंहानंद के खिलाफ अवमानना कार्रवाई शुरू करने की मंजूरी से जोड़कर देखा जा रहा है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

three + seven =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
संगठन में आरक्षण के नियम की क्या जरूरत?
संगठन में आरक्षण के नियम की क्या जरूरत?