• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

Amarnath Yatra 2021: अमरनाथ यात्रा के पंजीकरण प्रक्रिया को अस्थाई रूप से किया गया बंद, ये रहा कारण

Must Read

New Delhi: कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए अमरनाथ यात्रा के पंजीकरण प्रक्रिया को अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया है.  पंजीकरण करने का जिम्मा संभाल रहे श्राइन बोर्ड के एक सदस्य ने बताया कि देश में कोरोना के हालात में सुधार होते ही पंजीयन प्रक्रिया को एक बार पुनः शुरू कर दिया जाएगा.  बता दें कि अमरनाथ यात्रा को लेकर देशभर में एक उत्साह का माहौल रहता है ऐसे में पंजीकरण प्रक्रिया के बंद होने पर कई लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं. लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अमरनाथ यात्रा का होना भी और परेशान करने वाला हो सकता है.

28 जून से शुरू होनी है बाबा अमरनाथ की यात्रा

जम्मू कश्मीर में बाबा अमरनाथ की यात्रा 28 जून से शुरू होने वाली थी. लेकिन यात्रा के पंजीकरण प्रक्रिया को रोकने के बाद से अब इस यात्रा पर भी ग्रहण लगता हुआ नजर आ रहा है.  बता दें कि पंजीकरण प्रक्रिया 15 अप्रैल से ही शुरू कर दी गई थी.  इसके लिए अंतिम तिथि 22 अगस्त को रखी गई थी. हालांकि श्राइन बोर्ड का मानना है कि तब तक देश के हालात में सुधार हो जाएगा और लोग बाबा के दर्शन के लिए आ सकेंगे.

इसे भी पढ़ें- Corona in MP : मजदूरों की घर वापसी से कोरोना बढ़ने का खतरा, गांवों में बनाए जा रहे Quarantine Center   

यात्रा के लिए दी जा रही है विशेष सुविधाएं

अमरनाथ यात्रा के लिए श्राइन बोर्ड की ओर से कई तरह की सुविधाएं दी जा रही है.  बोर्ड की ओर से इस बार व्यवस्था की गई है कि यदि कोई श्रद्धालु बाबा अमरनाथ की यात्रा के लिए हेलीकॉप्टर की बुकिंग करवाता है तो उसे यात्रा के पंजीकरण करवाने की कोई आवश्यकता नहीं होगी.  हालांकि इसके लिए श्रद्धालु को अपना स्वास्थ्य प्रमाण पत्र और हेलीकॉप्टर की टिकट दिखाना अनिवार्य होगा. इसके पहले ये सुविधाएं  श्रद्धालु  नहीं दी जाती थी. पहले तो यात्रा के लिए  पंजीकरण कराना अनिवार्य होता था.

इसे भी पढ़ें- Corona infected patient घर पर हो सकते हैं स्वस्थ, इन नियमों का करें पालन

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

सत्य बोलो गत है!

‘राम नाम सत्य है’ के बाद वाली लाइन है ‘सत्य बोलो गत है’! भारत में राम से ज्यादा राम...

More Articles Like This