nayaindia Amit Shah played Owaisi card अमित शाह ने खेला ओवैसी कार्ड
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Amit Shah played Owaisi card अमित शाह ने खेला ओवैसी कार्ड

अमित शाह ने खेला ओवैसी कार्ड

हैदराबाद। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद को भाग्यनगर बता कर एक दांव चला तो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी का नाम लेकर दूसरा दांव चला। उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर हमला करते हुए कहा कि वे ओवैसी से डरते हैं। कार्यकारिणी की बैठक के दूसरे दिन रविवार को अमित शाह ने केसीआर पर निशाना साधते हुए कहा- केसीआर सरकार की कमान ओवैसी के हाथ में है, वे ओवैसी से डरते हैं।

शाह ने यह भी कहा कि केसीआर को जनता से कोई मतलब नहीं है, उन्हें सिर्फ अपने बेटे को सीएम बनाने की चिंता है। मुख्यमंत्री पर हमला जारी रखते हुए शाह ने कहा- क्या आपको पता है कि केसीआर कभी सचिवालय नहीं जाते, क्योंकि उन्हें एक तांत्रिक ने कहा है कि अगर आप सचिवालय जाएंगे तो सरकार गिर जाएगी। जो मुख्यमंत्री सचिवालय नहीं जाता उसे पद पर बने रहने का अधिकार है क्या? गौरतलब है कि भाजपा ने तेलंगाना में केसीआर से सीधा मुकाबला बनाया है। केसीआर भी पिछले छह महीने में प्रधानमंत्री मोदी की तीन हैदराबाद यात्राओं में एक बार भी उनको रिसीव करने हवाईअड्डा नहीं गए।

बहरहाल, अमित शाह ने दावा किया कि केसीआर की समस्या जल्दी ही खत्म हो जाएगी, क्योंकि तेलंगाना में भाजपा की सरकार बनने जा रही है। शाह ने दावा करते हुए कहा- देश में अगले 30 से 40 साल भाजपा के होंगे और भारत विश्वगुरु बनेगा। उन्होंने प्रधानमंत्री की बात को आगे बढ़ाते हुए राजनीति में जातिवाद, वंशवाद और तुष्टीकरण को बहुत बड़ा अभिशाप बताया। उन्होंने कहा कि बीजेपी की सरकार में देश की राजनीति से इनका अंत होकर ही रहेगा। शाह ने दावा किया है कि भाजपा जल्दी ही तेलंगाना और पश्चिम बंगाल में सरकार भी बनाएगी। दोनों राज्यों में पारिवारिक पार्टियों का दबदबा खत्म होगा। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा केरल, आंध्र प्रदेश और ओडिशा में भी सरकार गठन को लेकर तैयारी कर रही है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

nineteen + 2 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आरोपी- तफतीश के दौरान क्यूं रहते हैं जेल में… जमानत क्यूं नहीं…?
आरोपी- तफतीश के दौरान क्यूं रहते हैं जेल में… जमानत क्यूं नहीं…?