भारत में यहां मिला 15 गुणा ज्यादा खतरनाक नया स्ट्रेन, वैज्ञानिक हैरान! लोगों में खौफ - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया|

भारत में यहां मिला 15 गुणा ज्यादा खतरनाक नया स्ट्रेन, वैज्ञानिक हैरान! लोगों में खौफ

नई दिल्ली। पूरे देश में कोरोना (COVID-19) के कोहराम के बीच आंध्र प्रदेश से चैंकाने वाली खबर सामने आई है. यहां कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिला है. इसे AP स्ट्रेन और N440K नाम दिया गया है. सेंटर फॉर सेल्यूलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि भारत में मौजूदा स्ट्रेन के मुकाबले यह 15 गुणा ज्यादा खतरनाक है. यह B1.617 और B1.618 के बाद का आया नया वेरिएंट है.

तेजी से फैल रहा
बता दें कि दक्षिण भारत में कोरोना के अब तक 5 वैरिएंट मिल चुके हैं. इनमें AP स्ट्रेन आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तेलंगाना में तेजी से फैल रहा है. इसका असर महाराष्ट्र में भी देखा गया है. सबसे पहले इस स्ट्रेन की पहचान आंध्र प्रदेश के कुरनूल में हुई थी. शाखापट्टनम और राज्य के अन्य हिस्से में लोगों के बीच खौफ का सबसे बड़ा करण इसी वेरिएंट को माना जा रहा है.

यह भी पढ़ें:- COVID-19 Update : भारत में एक ही दिन में सामने आए 3.82 लाख से ज्यादा नए संक्रमित, मौतों के आंकड़ों ने भी तोड़े अभी तक सारे रिकाॅर्ड

15 गुणा ज्यादा वायरस फैलाने की क्षमता
CCMB के वैज्ञानिकों ने अध्ययन में पाया है कि, कोरोना के N440k वेरिएंट में A2a प्रोटोटाइप स्ट्रेन के मुकाबले 15 गुणा ज्यादा वायरस फैलाने की क्षमता है. कोरोना का A2a प्रोटोटाइप स्ट्रेन दुनियाभर में फैला हुआ है. ऐसे में अन्य वायरस की तुलना में कोरोना के N440k वेरिएंट कम समय में कई गुणा अधिक वायरस पैदा करने की क्षमता रखता है. वैज्ञानिकों ने कई केन्द्रों से वायरस का सैंपल इकट्ठा किया है उनमें से 50 फीसदी में कोरोना का N440k वेरिएंट पाया गया है. अध्ययन में यह भी सामने आया है कि यह वायरस आबादी के एक खास हिस्से में फैल रहा है.

यह भी पढ़ें:- Rajasthan COVID-19 Update : राजस्थान में 24 घंटे में 154 लोगों ने कोरोना से तोड़ा दम, नए संक्रमितों के आंकड़े में हल्की गिरावट दर्ज

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
छत्तीसगढ़: पीएम आवास योजना के तहत नहीं बन पाएंगे गरीबों के घर, लक्ष्य लिया वापस
छत्तीसगढ़: पीएम आवास योजना के तहत नहीं बन पाएंगे गरीबों के घर, लक्ष्य लिया वापस