वाट्सएप पर दैनिक उपस्थिति के आदेश से भड़के आयुर्वेद चिकित्सक - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

वाट्सएप पर दैनिक उपस्थिति के आदेश से भड़के आयुर्वेद चिकित्सक

जयपुर। राजस्थान में आयुर्वेदिक चिकित्साधिकारी संघ ने आयुर्वेद विभाग द्वारा औषधालयों और चिकित्सालयों में कार्मिकों की उपस्थिति की पुष्टि कराने के लिये वाट्सएप पर फोटो डालने का कड़ा विरोध किया है।

राजस्थान आयुर्वेदिक विभागीय चिकित्सक संघ के प्रदेशाध्यक्ष वैद्य मृगेंद्र जोशी ने आज यहां पत्रकारों से कहा कि हाल ही में आयुर्वेद विभाग के अतिरिक्त निदेशक और उपनिदेशक द्वारा आयुर्वेदिक औषधालयों एवं चिकित्सालयों में कार्मिकों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने के लिये सुबह नौ से सवा नौ बज तक उपस्थिति रजिस्टर के साथ सेल्फी लेकर वाट्सएप ग्रुप में डालने का आदेश दिया है जो व्यवहारिक नहीं है।

उन्होंने बताया कि ज्यादातर औषधालय और चिकित्सालय ग्रामीण क्षेत्रों सुदूर स्थानों पर हैं, जहां नेटवर्क का अभाव है। उन्होंने बताया कि यह आदेश मौखिक रूप से दिया गया है, इसके तहत रजिस्टर और अन्य दस्तावेज सोशल साइट पर डालने पर कार्मिक खुद दोषी होगा। यह महिला कार्मिकों के लिये भी उचित नहीं है। पूरे राज्य में करीब 900 महिला कार्मिक हैं। उनका रोजाना फोटो भेजना उनकी निजता एवं मौलिक अधिकारों का हनन है। इस सम्बन्ध में उच्चतम न्यायालय ने भी सख्ती दिखाते हुए कहा है कि महिला कार्मिक के कार्यस्थल पर कैमरे आदि का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। उधर आयुर्वेद चिकित्सक वैलफेयर एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष डा़ जितेंद्र सिंह कोठारी ने आयुर्वेदिक कार्मिकों की अन्य सस्मयाओं से सम्बन्धित सात सूत्री मांगों का ज्ञापन आयुर्वेद विभाग को भेजा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
घाटी है सवालों की बेताल पचीसी!
घाटी है सवालों की बेताल पचीसी!