nayaindia Azam Khan: आजम खान का अपने करीबी रहे लोगों पर तीखा प्रहार
kishori-yojna
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Azam Khan: आजम खान का अपने करीबी रहे लोगों पर तीखा प्रहार

आजम खान का अपने करीबी रहे लोगों पर तीखा प्रहार, कहा- बीजेपी के यहां पोछा लगाएंगे!

लखनऊ | Azam Khan: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने जेल से बाहर आते ही रामपुर सीट पर उप चुनाव (Rampur Bypoll) लड़ रहे सपा के उम्मीदवार के लिए चुनावी सभा करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने यूपी सरकार और सपा को छोड़कर दल बदलने वाले नेताओं पर जमकर हमला बोला। आजम खान ने रामपुर विधानसभा क्षेत्र के नालापार इलाके में सोमवार रात एक चुनावी सभा को संबोधित किया और बागियों पर तीखे बाण छोड़े।

बीजेपी के यहां पोछा लगाएगा….
पूर्व मंत्री आजम खान ने सभा में किसी का व्यक्तिगत नाम लिए बिना कहा कि अब्दुल (मुसलमान तबका) अब दरी नहीं बिछाएगा, यह कह कर मेरा साथ छोड़ कर चला गया। वह जब आया था तब मैंने उसके लिए रेड कारपेट बिछाया था। याद रखो आठ दिसंबर के बाद अब्दुल बीजेपी के यहां पोछा लगाएगा।

ये भी पढ़ें:- टीम इंडिया सहित इन 7 टीमों ने ICC World Cup 2023 के लिए किया क्वालीफाई

अब सिर्फ वफादार बचे
UP Bypoll: दिग्गज नेता रहे आजम खान यही चुप नहीं हुए और उन्होंने आगे कहा कि जितने भी ठेकेदार, मालदार थे वे अपने जमीन-जायदाद का हिसाब नहीं दे पाए इसलिए चले गए और जितने भी गद्दार थे, वे सब भी चले गए। अब सिर्फ वफादार बचे हैं। इसी के साथ आजम खान रामपुरवासियों से ये भी कहा कि, तुम्हारी एक गलती मेरी 50 साल की मेहनत को मटियामेट कर देगी।

ये भी पढ़ें:- बेहद खूबसूरत है कियारा आडवाणी और Sidharth Malhotra की लव स्टोरी

रामपुर सीट से आसिम राजा है सपा के उम्मीदवार
Azam Khan:  आपको बता दें कि, इस महीने के शुरू में आजम खान को 3 साल की सजा सुनाए जाने के चलते उनकी सदस्यता रद्द होने से रामपुर विधानसभा सीट खाली हो गई है। जिसके तहत इस सीट पर 5 दिसंबर को मतदान होगा। सपा ने इस उपचुनाव में आसिम राजा को उम्मीदवार बनाया है और भाजपा की ओर से यहां आकाश सक्सेना चुनावी मैदान में उतारा गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − two =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सरकारी अधिकारियों को हाई कोर्ट की फटकार
सरकारी अधिकारियों को हाई कोर्ट की फटकार