सब्र रखिये हम भी कोरोना फ्रेंडली हो जाएंगे-स्टडी - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

सब्र रखिये हम भी कोरोना फ्रेंडली हो जाएंगे-स्टडी

भारत सवा साल से कोरोना वायरस लड़ रहा है। और इस पर हर दिन अलग-अलग शोध और स्टडी होती रहती है। यब वायरस दिन-प्रतिदिन अपना रूप बदल रहा है। वर्तमान समय में कोरोना मजबूत होता जा रहा है और अपना अलग-अलग रूप सामने ला रहा है। अभी वैज्ञानिक कोरोना को जितना शक्तिशाली बता रहे एक स्टडी में सामने आया है कि कोरोना वायरस भविष्य में सर्दी-झुकाम बनकर रह जाएगा। अगले दशक तक कोविड-19 के लिए जिम्मेदार कोरोना वायरस सामान्य सर्दी-जुकाम वाला वायरस रह जाएगा। एक अध्ययन में यह कहा गया है. शोध पत्रिका ‘वायरसेस’ में प्रकाशित एक अध्ययन में गणितीय मॉडल के आधार पर लगाए गए अनुमान में कहा गया है कि मौजूदा महामारी के दौरान मिले अनुभवों से हमारा शरीर प्रतिरक्षा तंत्र में बदलाव कर लेगा।

 

इसे भी पढ़ें Corona Third Wave : अगर कोरोना की तीसरी लहर आई तो कितनी खतरनाक होगी ये लहर??

वायरस में बदलाव के करारण बीमारी का गंभीरता कम हो जाएगी

अमेरिका में यूटा विश्वविद्यालय में गणित और जीव विज्ञान के प्रोफेसर फ्रेड अडलेर ने कहा कि यह एक संभावित भविष्य को दर्शाता है, जिसके समाधान के लिए अभी तक तमाम कदम नहीं उठाए गए हैं। अडलेर ने कहा कि आबादी के बड़े हिस्से में प्रतिरक्षा तंत्र तैयार हो जाने से अगले दशक तक कोविड-19 बीमारी की गंभीरता घटती जाएगी। अध्ययन में कहा गया है कि वायरस में आए बदलाव की तुलना में हमारे प्रतिरक्षा तंत्र में आए परिवर्तन की वजह से बीमारी की गंभीरता कम होती जाएगी। इस अध्ययन के मुताबिक, टीकाकरण से या संक्रमण के जरिए वयस्कों की प्रतिरक्षा बेहतर होने से अगले दशक तक इस वायरस के कारण गंभीर बीमारी नहीं होगी। हालांकि, अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि इस मॉडल में बीमारी के प्रत्येक मामलों पर गौर नहीं किया गया है। उदाहरण के तौर पर अगर वायरस का नया स्वरूप प्रतिरक्षा को भेद देता है तो कोविड-19 गंभीर रूप ले सकता है।

कोरोना की तीसरी लहर आना निश्चित है-विशेषज्ञ

भारत अभी कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहा है। कोरोना की दूसरी लहर अति भयानह होती जा रही है। कोरोना अपने साथ कई अन्य बीमारियां लेकर आया है। कोरोना से उभर रहे मरीजों में ब्लैक फंगस के लक्षण देखने को मिल रहा है। ब्लैक फंगस के बाद लोग अब व्हाईट फंगस से भी पीड़ित हो रहे है। वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की वैक्सीन भी दी है। भारत में 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को कोरोना का टीकाकरण किया जा रहा है। इस बीच वैज्ञानिकों का कहना है कि भारत में  कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी। लेकिन ये कब आएगी ये निश्चित नहीं है। प्रत्येक नई लहर पुरानी लहर के खत्म होने के 3-4 माह बाद आती है। तो यह अनुमान लगाया जा सकता है कि तीसरी लहर का आगमन नवंबर-दिसंबर तक होगा। तीसरी लहर बच्चों और युवाओं पर ज्यादा असर डालेगी। जिसको लेकर माता-पिता और डॉक्टर्स ने पूरी तैयारी कर ली है। विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि तीसरी लहर दूसरी लहर से भी ज्यादा संकामक होगी। भारत के कुछ राज्यों में कोरोना का पीक आ चुका है। जिस कारण से वहां कोरोना के मामले कम आ रहे है।

कोरोना का आतंक
भारत में कोरोना का प्रकोप चल रहा है। एक दिन में 3 लाख के पार मामले मिल रहे है। और तीन हजार के करीब मौतें हो रही है। भारत के कुछ राज्यों में कोरोना के मामले तो कम हो रहे है लेकिन मौत का आंकड़ा वही है। कुथ राज्यों में कोरोना पीक आ गया है। इस कारण मामले कम होने शुरु हो गये है। विशेषज्ञों ने कहा था कि कोरोना के पीक के बाद मामले कम होने शुरु हो जाएंगे। राज्य सरकारों ने कोरोना को नियंत्रण में करने के लिए अपने अथक प्रयास कर लिए है। इस बार कोरोना गांवों में फैल गया है। जो तबाही का रूप ले चुका है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});