• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

Bengal Election 2021: बंगाल में यहां नहीं गलती दीदी की दाल, इनके पास है जीत की चाभी

Must Read

Kolkata: बंगाल में आखिरी दो चरण का मतदान अभी भी होना है.  हालांकि कोर्ट की फटकार के बाद अब दोनों ही राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव प्रचार के दौरान रैलियों को रद्द कर दिया है. लेकिन 29 अप्रैल को बंगाल में जहां चुनाव होने वाला है वहां बांग्ला भाषियों की नहीं बल्कि हिंदी भाषियों और मारवाड़ियों की तूती बोलती है.  माना जा रहा है कि 29 अप्रैल को होने वाले इन तीन प्रमुख सीटों चौरंगी, जोड़ासांको और श्यामपुकुर में TMC की राह आसान नहीं होने वाली है. 2019 के लोकसभा चुनाव में भी BJP ने यहां शानदार प्रदर्शन किया था.  ऐसे में माना जा रहा है कि ममता बनर्जी की दाल इन 3 सीटों पर तो गलने वाली नहीं है. जोड़ासांको सीट पर मारवाड़ियों का खासा दबदबा माना जाता है.  ऐसे में कहा जा रहा है कि यहां जीत की चाभी इन्हीं के पास होगी.

इन सीटों पर स्थानीय बनाम बाहरी का होगा TMC को नुकसान

इन तीनों सीटों पर हिंदी भाषी लोगों की अधिकता है.  ऐसे में TMC जो लगातार स्थानीय बनाम बाहरी का मुद्दा उठाती रही है उन्हें इन तीनों सीटों पर परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.  इस बार भी TMC में इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाया था.  यहीं कारण है कि TMC इन तीनों सीटों पर कुछ खास नहीं कर पा रही है. बता दें कि बंगाल में 6 चरणों का मतदान हो चुका है ऐसे में अब इन हिंदी भाषी क्षेत्रों में BJP को बड़ी सफलता मिलने की उम्मीद की जा रही है.

इसे भी पढ़ें- BengaL Election 2021 : मुफ्त की वैक्सीन पर अब बंगाल में राजनीति, TMC और BJP दोनों ने किया वायदा

कोर्ट के फटकार के बाद रद्द की थी रैलियां

देश और बंगाल में कोरोना के खतरे को देखते हुए हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग के साथ ही राजनीतिक पार्टियों को जमकर फटकार लगाई थी.  कोर्ट ने कहा था कि चुनावी रैलियों में खुले रुप से कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाई जा रही है. ऐसे में अब किसी भी पार्टी द्वारा कोई रोड शो या रैली करने पर मनाही कर दी गई थी.  कोर्ट के फटकार के बाद सबसे पहले प्रधानमंत्री मोदी और उसके बाद बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी सभी चुनावी रैलियां रद्द कर दी थी.  ममता बनर्जी ने कहा कि अब वह सोशल साइट्स के माध्यम से ही लोगों से मतदान की अपील करेंगी.  हालांकि अभी भी कोर्ट ने प्रचार के लिए जनसभा की अनुमति दी है लेकिन इसमें भी 500 से ज्यादा लोगों के आने पर मनाही की गई है.

इसे भी पढ़ें- Bengal Election 2021: हाईकोर्ट की फटकार का दिखा असर, अंतिम दो चरण के मतदान पर अहम बैठक आज

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

सत्य बोलो गत है!

‘राम नाम सत्य है’ के बाद वाली लाइन है ‘सत्य बोलो गत है’! भारत में राम से ज्यादा राम...

More Articles Like This