nayaindia Bharat Jodo Yatara Madhyapradesh मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने दिखाई एकता
kishori-yojna
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Bharat Jodo Yatara Madhyapradesh मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने दिखाई एकता

मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने दिखाई एकता

भोपाल। मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा के आखिरी दिन शनिवार को कांग्रेस पार्टी ने एकजुटता दिखाई। कमलनाथ, दिग्विजय सिंह, सुरेश पचौरी सहित तमाम बड़े नेता यात्रा में शामिल हुए। राहुल की यात्रा में आखिरी दिन राज्य के चर्चित कंप्यूटर बाबा भी यात्रा में शामिल हुए। कमलनाथ के नेतृत्व में 2018 में जब राज्य में कांग्रेस की सरकार बनी थी तब कंप्यूटर बाबा को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था। वे थोड़ी दूर यात्रा में चले। उस समय मध्य प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्री- कमलनाथ और दिग्विजय सिंह भी यात्रा में राहुल के साथ चल रहे थे।

दोपहर बाद करीब दो बजे राहुल गांधी ने किसानों के साथ बैठक की। उससे पहले अपने कैंप में उन्होंने कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को बुलाया था। इससे पहले कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में एक और यात्री का निधन हो गया। राहुल गांधी की यात्रा का स्वागत करने आए जीरापुर के मांगीलाल को हार्टअटैक आया। पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह ने इसकी पुष्टि की है। इससे पहले कर्नाटक में भी एक यात्री का निधन हुआ था।

यात्रा के दौरान शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस भी ही, जिसमें पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुरेश पचौरी ने राज्य सरकार पर जम कर निशाना साधा। उन्होंने कहा- मध्य प्रदेश अब घोटाला प्रदेश के रूप के जाना जाने लगा है। कारम डैम फूटने की घटना इसी का प्रमाण है। कमलनाथ सरकार ने किसानों का 50 हजार तक का लोन माफ किया। अगले चरण एक लाख रुपए तक के लोन माफ होने वाले थे, लेकिन उससे पहले हमारी सरकार गिरा दी गई। उन्होंने कहा- हनी ट्रैप, व्यापमं और ई टेंडर घोटाले की जांच शुरू करने से लिप्त लोगों को घबराहट थी, इसलिए कमलनाथ सरकार गिराई।

इससे पहले राहुल गांधी की यात्रा काशीबर्डिया में रात्रि विश्राम के बाद शनिवार की सुबह बस स्टॉप महुड़िया से शुरू हुई। शनिवार का दिन कांग्रेस के लिए इसलिए भी खास रहा क्योंकि ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराने वाले भाजपा सांसद केपी यादव के भाई अजय यादव भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुए। उन्होंने कहा- भाई मजबूरी में बीजेपी में गए थे। हमारा परिवार कांग्रेस के साथ है। उन्होंने पूरा समय विधायक जयवर्धन सिंह के साथ बिताया। गौरतलब है कि केपी यादव पहले सिंधिया के करीबी थे। लेकिन बाद में वे भाजपा में चले गए और उन्होंने सिंधिया को हराया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 14 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मोदी के बजट में बिहार को धोखा: तेजस्वी
मोदी के बजट में बिहार को धोखा: तेजस्वी