टाइम के उभरते नेताओं की सूची में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर का नाम -
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%%

टाइम के उभरते नेताओं की सूची में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर का नाम

नई दिल्ली। भीम आर्मी के चंद्रशेखर आजाद सहित पांच भारतीय मूल की हस्तियां टाइम मैगजीन की 100 ‘उभरते नेताओं’ की वार्षिक सूची का हिस्सा हैं, जो भविष्य को आकार दे रहे हैं। 2021 टाइम 100 नेक्स्ट में उन 100 उभरते नेताओं को शामिल किया गया है जो भविष्य को आकार दे रहे हैं।

सूची में शामिल अन्य लोगों में ट्विटर की वकील विजया गड्डे, ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक, इंस्टाकार्ट के संस्थापक और सीईओ अपूर्व मेहता, नॉन-प्रॉफिट गेट अस पीपीई की डॉक्टर और कार्यकारी निदेशक शिखा गुप्ता और गैर-लाभकारी संस्था अपसॉल्व के संस्थापक रोहन पावुलुरी शामिल हैं।

आजाद पर टाइम प्रोफाइल कहती है, 34 वर्षीय एक दलित चन्द्रशेखर आजाद, भारत के सबसे दबे-कुचले जाति समूह के सदस्य हैं। वह जिस आंदोलन का नेतृत्व करते हैं, भीम आर्मी शिक्षा के माध्यम से गरीबी से बचने के लिए दलितों की मदद के लिए स्कूल चलाती है। यह जाति-आधारित हिंसा के शिकार और भेदभाव के खिलाफ प्रदर्शनों का आयोजन करती है, मोटरबाइक पर गांवों में घुसकर इसके खिलाफ आवाज उठाती है।

इसमें कहा गया है कि सितंबर 2020 में, जब उत्तर प्रदेश राज्य में पुलिस ने 19 वर्षीय दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म की जांच में देरी की, तो आजाद और भीम आर्मी ने न्याय के लिए एक अभियान चला दिया। शिखा गुप्ता पर टाइम ने कहा कि चिकित्सा पेशेवरों और अन्य टीम के सदस्यों के एक समर्पित गठबंधन द्वारा संचालित, गेट अस पीपीपीई संगठन- जहां गुप्ता कार्यकारी निदेशक हैं – ने 65 लाख से अधिक पीपीई पीस को फ्रंटलाइन वर्कर्स को वितरित करने में मदद की है।

2018 में, 25 वर्षीय रोहन पावुलुरी ने अपसॉल्व की स्थापना की, जो एक गैर-लाभकारी कंपनी है जो उपयोगकर्ताओं को अपने स्वयं के दिवालिया फॉर्म भरने में मदद करने के लिए एक मुफ्त ऑनलाइन टूल प्रदान करती है। आज तक, अपसॉल्व ने अमेरिकी यूजर्स को 30 करोड़ डॉलर से अधिक ऋण में राहत देने में मदद की है। टाइम ने कहा कि ब्रिटेन के चांसलर ऋषि सुनक पोलस्टर यूजीओवी के अनुसार, देश के सबसे लोकप्रिय राजनेता बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि वह ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री होने के लिए पसंदीदा हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
UP Election 2022 : ‘उत्तर प्रदेश’ तो बहाना है, सबको ‘दिल्ली’ जाना है…
UP Election 2022 : ‘उत्तर प्रदेश’ तो बहाना है, सबको ‘दिल्ली’ जाना है…