Gautam Gambhir Death Threats: Gambhir परेशानी में, जान से मारने की धमकी
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Gautam Gambhir Death Threats: Gambhir परेशानी में, जान से मारने की धमकी

पूर्व क्रिकेटर Gautam Gambhir आए परेशानी में, ‘ISIS’ से मिली जान से मारने की धमकी, सुरक्षा की गई चाकचौबंद

नई दिल्ली | Gautam Gambhir Death Threats: भारत के पूर्व क्रिकेटर और पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद गौतम गंभीर (Gautam Gambir) परेशानी में आ गए हैं। उन्हें ‘आईएसआईएस कश्मीर’ (ISIS Kashmir) से जान से मारने की धमकी (death threats) मिली है। जिसके बाद पूर्व खिलाड़ी गौतम गंभीर ने दिल्ली पुलिस को इसकी जानकारी है। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए गंभीर के आवास के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

शेयर किया धमकीभरा ई-मेल
Gautam Gambhir Death Threats: भाजपा सांसद ने पुलिस को बताया कि, उन्हें ‘आईएसआईएस कश्मीर’ से जान से मारने की धमकीभरा एक ई-मेल मिला है। इसके साथ ही उन्होंने जान से मारने की धमकीभरा ई-मेल शेयर भी किया है। जिसके बाद DCP  सेंट्रल श्वेता चौहान ने उनकी सुरक्षा बढ़ाते हुए इस मामले में जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें:- कोरोना ने फिर दिया झटका! 24 घंटे में 437 लोगों की मौत, फिर 9 हजार पार हुए नए केस

Gambhir raised questions on Warner

हर मद्दों पर रखते हैं बेबाक राय
भारत के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पर ईस्ट दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव जीतकर सांसद बने हैं। गौरतलब है कि, गंभीर किसी भी मुद्दे पर अपनी राय बेबाक तरीके से रखते हैं। विपक्ष के नेताओं पर अपनी बयानबाजी को लेकर वे हमेशा चर्चा में बने रहते हैं। यहीं नहीं, गंभीर कई बार आतंकवाद के खिलाफ भी बयानबाजी कर चुके हैं।

बता दें कि, गौतम गंभीर ने हाल ही में नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बड़ा भाई बताने पर भी घेरा था। गंभीर ने ट्वीट कर नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधते हुए कहा था कि पहले अपने बेटा और बेटी को सीमा पर भेजें फिर ऐसे बयान दें।

ये भी पढ़ें:- शुरु हो रहा भारत का त्यौहार, इस शहर में 2 अप्रैल से शुरू हो सकता है IPL 2022

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कानूनों के वापस का बयान— संसद से निरस्त होने तक भरोसा नहीं
कानूनों के वापस का बयान— संसद से निरस्त होने तक भरोसा नहीं