nayaindia Black Fungus : दिल्ली के मशहूर मूलचंद अस्पताल में ब्लैक फंगस से गई पहली जान,37 साल के कोरोना मरीज ने तोड़ा दम - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

Black Fungus : दिल्ली के मशहूर मूलचंद अस्पताल में ब्लैक फंगस से गई पहली जान,37 साल के कोरोना मरीज ने तोड़ा दम

देश के कुछ राज्यों में कोरोना ढ़लने लगा है। लेकिन ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ रहा है। देश में  ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ने लगा है। ताजा मामला दिल्ली से जुड़ा है। दिल्ली में  ब्लैक फंगस का खतरा बढने लगा है। दिल्ली में  ब्लैक फंगस के कारण एक शख्स की मौत हो गई है।  ब्लैक फंगस के कारण मौत का पहला मामला है।  दिल्ली के मशहूर मूलचंद अस्पताल में 16 मई को ये मामला आया। मूलचंद अस्पताल के डॉ. भगवान मंत्री ने इस बारे में पूरी जानकारी दी है। ब्लैक फंगस के कारण पुरे देश भर में जान गई है। कोरोना से उभर रहे मरीज ब्लैक फंगस का शिकार हो रहे है। ब्लैक फंगस में आंखों की रोशनी जा रही है। कई मरीजों की आंखें निकाली जा चुकी है। आंख, कान, गला में फंगस फैल रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार  एम्स में 75-80 मामले, मैक्स अस्पताल में 50 और इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पतालों में 10 मामले सामने आए।

इसे भी पढ़ें कोरोना की अलीशान जिंदगी, लॉकडाउन में 14 महीने 5-स्टार होटल में रहा ये शख्स

कार्डिएक अरेस्ट के कारण हुई मौत

डॉ. भगवान के मुताबिक, मेरठ का रहने वाला 37 साल का एक व्यक्ति जो कोरोना पॉजिटिव था, उसमें ब्लैक फंगस के लक्षण पाए गए थे. कोरोना पॉजिटिव होने के बाद उसका घर में ही ईलाज चल रहा था उसे हाई ब्लड शुगर था। डॉक्टर ने बताया कि जब 16 मई को मरीज को मूलचंद अस्पताल में लाया गया, तो उसकी आंखों में सूजन थी और चेहरा भी सूजा हुआ था। मरीज की आंखें लाल थी, साथ ही उसकी नाक में से भी खून बहने की शिकायत थी। जब सभी टेस्ट किए गए, तो ब्लैक फंगस की बात सामने आई और उसके बाद सर्जरी को प्लान किया गया। मूलचंद अस्पताल के डॉक्टर ने बताया कि सर्जरी और अन्य कोशिशों के बाद मरीज को कार्डिएक अरेस्ट हुआ और उसे बचाया नहीं जा सका। कोरोना संकट के बीच ब्लैक फंगस की समस्या को लेकर डॉ. भगवान ने बताया कि ब्लैक फंगस के कारण मृत्यु दर ज्यादा है, साथ ही इससे मरीजों की आंखों को अधिक नुकसान होता है। डॉक्टर ने बताया कि अधिक मात्रा में दवाई देना, मरीज को डायबिटीज़ होना या अन्य लक्षण के कारण उसकी जान को खतरा हो सकता है।

 

कई राज्यों में तबाही मचा चुका है ब्लैक फंगस

बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के बीच ब्लैक फंगस के मामले बढ़े हैं. गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश और कर्नाटक के अलावा अन्य कुछ राज्यों में भी ये मामले दर्ज किए गए हैं। ब्लैक फंगस के दौरान काम आने वाली एंफोटेरिसिन बी की कमी कई राज्यों में दर्ज की गई है, जबकि राज्य सरकारें अपनी ओर से अब इससे निपटने की तैयारी कर रही है। हालात ये हैं कि कर्नाटक के बेंगलुरु में 15 दिनों में ब्लैक फंगस के 75 केस दर्ज किए गए थे, जबकि राजस्थान में भी इस बीमारी के कारण कई लोगों की जान जा चुकी है। कई राज्य सरकारों ने अपील की है कि केंद्र को जल्द से जल्द इस बीमारी का अध्ययन करना चाहिए,ताकि इससे निपटा जा सके।

Leave a comment

Your email address will not be published.

20 − three =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
संजय अरोड़ा होंगे दिल्ली पुलिस कमिश्नर
संजय अरोड़ा होंगे दिल्ली पुलिस कमिश्नर