बांग्लादेश की ओर बढ़ा ‘बुलबुल’ का खतरा

ढाका। बांग्लादेश के मौसम विभाग कार्यालय ने शनिवार सुबह मोंगला और पायरा के समुद्री बंदरगाहों के लिए चेतावनी जारी करते हुए कहा कि तूफान दक्षिणी बांग्लादेश के अन्य तटीय जिला संख्या 10 और नौ की ओर तेजी के साथ बढ़ रहा है। मौसम विभाग ने स्थानीय समय आठ बजे एक विशेष बुलेटिन में चट्टोग्राम बंदरगाह और उसके आस-पास के पांच जिलों तथा बंदरगाह संख्या नौ में सबसे अधिक खतरा बताया है।

इसे भी पढ़ें :- अयोध्या फैसला : जिलानी ने कहा, पुनर्विचार याचिका दायर करेंगे

‘बुलबुल’ तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है और आज सुबह उत्तरपूर्वी खाड़ी और उसके आस-पास पश्चिम-मध्य खाड़ी में पहुंच गया है। विभाग ने बुलेटिन में बताया कि उत्तरपश्चिम खाड़ी और उससे सटे इलाकों पर प्रलयकारी चक्रवाती तूफान बुलबुल उत्तर की ओर आगे बढ़ गया और अभी वह उसी क्षेत्र में स्थित है। उन्होंने बताया शनिवार को छह बजे चक्रवाती तूफान का केन्द्र चट्टोग्राम बंदरगाह के दक्षिणपश्चिम से लगभग 525 किलोमीटर, कोक्स बाजार बंदरगाह से 510 किमी, मोगला बंदरगाह के 350 किमी ओर पायरा बंदरगाह से 375 किमी पर स्थित था।

इसे भी पढ़ें :- राम जन्मभूमि पर फैसले की सोशल मीडिया पर सराहना

आज शाम यह तूफान के उत्तर/उत्तर-पूर्वी दिशा और यह पश्चिम बंगाल-खुलना तट (सुन्दरबन के पास) पहुंचने का अनुमान है। आज अपराह्न से समुद्री बंदरगाहों, उत्तर खाडी और बांग्लादेश के तटीय इलाकों में धूल भरी आंधी और बहुत तेज हवाएं चल सकती हैं। बुलेटिन में बताया कि चक्रवाती तूफान के दौरान निरतंर 74 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चलेंगी और धूल भरी आंधी के साथ यह निरंतर बढ़कर 130 किमी से 150 किमी तक बढ़ रही है। इस दौरान समुद्र में बहुत ऊंची लहरें उठेंगी।

इसे भी पढ़ें : – पाकिस्तान को रास नहीं आया अयोध्या विवाद पर फैसला

मोंगला और पायरा के समुद्री बंदरगाहों में सात नंबर से कम खतरे के संकेत की सलाह दी गयी है लेकिन यह खतरा बढ़कर 10 नंबर हो जा सकता है। तटीय जिले भोला, बारगुना, पातुआखाली, बारीशल, पिराेजपुर, झालोकाठी, खुलाना, सतखीरा और उसके आसपास के द्वीप तथा बड़े खतरे के संकेत नंबर 10 के तहत आएंगे। तटीय जिले खुल्ना, सतखीरा, चटोग्राम, नोआखली, लक्ष्मीपुर, फेनी, चांदपुर, बरगुना, पटुआखली, बारिसाल, भोला, पिरोजपुर, झालोकाठी, बागेरहाट और उनके तटीय द्वीपों और इलाकों में 100-120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलने का अनुमान है। मौसम विभाग ने सभी मछुआरों को अगले आदेश तक समुद्र से दूर रहने की सलाह दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares