nayaindia Cases reduced in metros महानगरों में कम हुए केस
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Cases reduced in metros महानगरों में कम हुए केस

महानगरों में कम हुए केस

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की तीसरी लहर वैसे तो देश के कई राज्यों में तेजी से फैल रही है लेकिन महानगरों में केस कम होने लगे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि राजधानी दिल्ली और वित्तीय राजधानी मुंबई में तीसरी लहर का पीक आ चुका है और अब नए केसेज की संख्या और संक्रमण दर दोनों में कमी आ रही है। दिल्ली, मुंबई के अलावा कोलकाता में भी नए केसेज की संख्या में कमी आई है। दिल्ली में लगातार दूसरे दिन केस कम हुए हैं तो मुंबई में लगातार तीसरे दिन नए केसेज में गिरावट आई है। कोलकाता में भी नए केसेज कम हुए हैं।

मुंबई में शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन नए केसेज में कमी आई। शुक्रवार को 24 घंटे में मुंबई में 5,008 नए मामले मिले और 12 लोगों की मौत हुई। दिल्ली में शुक्रवार को 10,756 नए केस मिले, जबकि एक दिन पहले 12,306 नए केस मिले थे। दिल्ली में संक्रमण दर में भी तीन फीसदी से ज्यादा की कमी आई है। शुक्रवार को दिल्ली में 18.04 फीसदी संक्रमण दर रही, जो एक दिन पहले 21.48 फीसदी थी। दिल्ली में शुक्रवार को 38 मरीजों की मौत हुई। दिल्ली में केसेज कम होने की वजह से राज्य सरकार ने वीकेंड कर्फ्यू और ऑड-ईवन की व्यवस्था खत्म करने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन उप राज्यपाल ने इसे नहीं स्वीकार किया।

यह भी पढ़ें: विदेश नीति में क्या होता हुआ?

बहरहाल, शुक्रवार को भी नए केसेज के मामले में कर्नाटक अव्वल रहा। राज्य में 24 घंटे में 48,049 नए मामले आए और 22 लोगों की मौत हुई। एक दिन पहले गुरुवार को राज्य में 47,754 मरीज मिले थे। राज्य में संक्रमण की दर 19.23 फीसदी पहुंच गई है। इसके बावजूद कर्नाटक ने वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला किया है। हालांकि रात का कर्फ्यू जारी रखने का फैसला किया गया है।

उधर केरल में मरीजों की संख्या बढ़ने का सिलसिला जारी है। राज्य की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा कि राज्य में दो लाख के करीब एक्टिव केस हो गए हैं लेकिन सिर्फ तीन फीसदी लोगों को ही अस्पताल में भर्ती कराने की नौबत आई है और उसमें भी 0.7 फीसदी को ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत पड़ी है। बहरहाल, पश्चिम बंगाल में गुरुवार को 9,154 नए मामले मिले और 35 मरीजों की मौत हुई। इस बीच देश में एक्टिव केसेज की संख्या 20 लाख का आंकड़ा पार कर गई है और मरने वालों की संख्या पांच लाख के आंकड़े की तरफ बढ़ रही है। भारत सरकार के स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक यह संख्या चार लाख 88 हजार से ऊपर पहुंच गई है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

1 × 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राजद्रोह कानून को रद्द करें
राजद्रोह कानून को रद्द करें