nayaindia Chaitra Navratri 2022: चैत्र नवरात्र शुरु, घर और मदिरों में जलेगी आस्था की ज्योत
ताजा पोस्ट | देश | लाइफ स्टाइल | धर्म कर्म| नया इंडिया| Chaitra Navratri 2022: चैत्र नवरात्र शुरु, घर और मदिरों में जलेगी आस्था की ज्योत

आज से चैत्र नवरात्र शुरु, घर और मदिरों में जलेगी आस्था की ज्योत, जानें कलश स्थापना एवं शुभ मुहूर्त

नई दिल्ली | Chaitra Navratri 2022: आज यानि शनिवार से चैत्र नवरात्र की शुरुआत और हिंदू नववर्ष का प्रारंभ हुआ है। चैत्र नवरात्रि के पहले दिन देशभर के दुर्गा मंदिरों में सुबह से ही पूजा के लिए भक्त आने लगे हैं। अब 9 दिन तक घरों में मां दुर्गा की आराधना होगी। जिसके लिए कलश स्थापना की जाएगी। नवरात्र के दिन मां की उपासना से जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं और घर में सुख-समृद्धि का वास होता है। चैत्र नवरात्र की शुरुआत के साथ ही भक्तों द्वारा मां की आराधना के लिए व्रत रखने का सिलसिला भी शुरू हो जाएगा। नवरात्रि के अंतिम दिन नवमी को राम नवमी का त्यौहार मनाया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- मार्च में 1.42 लाख करोड़ जीएसटी कलेक्शन

Chaitra Navratri 2022: आज प्रातः 06ः10 बजे तक सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग बना हुआ है, वहीं इंद्र योग सुबह 08ः31 बजे तक और रेवती नक्षत्र दिन में 11ः21 बजे तक है। ये योग और नक्षत्र मांगलिक कार्यों के लिए शुभ हैं।

नवरात्र में की जाती हैं मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना –Navratri 2022

– पहले दिन घटस्थापना और मां शैलपुत्री का पूजन
– दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी का पूजन।
– तीसरे दिन मां चंद्रघंटा का पूजन।
– चैथे दिन मां कुष्मांडा का पूजन।
– पांचवें दिन मां स्कंदमाता का पूजन।
– छठें दिन मां कात्यायनी का पूजन।
– सातवें दिन मां कालरात्रि का पूजन।
– आठवें दिन दुर्गाष्टमी और मां महागौरी का पूजन।
– नवें दिन राम नवमी का त्यौहार।
– दसवे दिन नवरात्रि पारण।

ये भी पढ़ें:- बहेलियों की काल-रात्रि में राहुल-प्रियंका का चिराग

कलश स्थापना एवं शुभ मुहूर्त – Kalash Sthapana Shubh Muhurt
चैत्र नवरात्र के पहले दिन घरों में माता के पूजन के लिए घटस्थापना की जाएगी। घटस्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 06 बजकर 01 मिनट से सुबह 08 बजकर 31 मिनट तक रहेगा। इसके अलावा अभिजित मुहूर्त में दोपहर 12 बजे से 12 बजकर 50 मिनट तक घटस्थापना की जा सकती है।

ये भी पढ़ें:- क्षत्रप बनाम कांग्रेस

साल में चार बार आते हैं नवरात्र
आपको बता दें कि, साल में चार बार नवरात्र आती का पर्व आता हैं। इसमें दो गुप्त नवरात्र और एक शारदीय नवरात्र के अलावा एक चैत्र नवरात्र होते है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कर्तव्य-ध्वजा का ध्वंस या सांसारिक समर्पण
कर्तव्य-ध्वजा का ध्वंस या सांसारिक समर्पण