nayaindia Pushkar Dhami At Kadarnath Dham: बाबा केदारनाथ के दर सीएम पुष्कर धामी
देश | उत्तराखंड | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Pushkar Dhami At Kadarnath Dham: बाबा केदारनाथ के दर सीएम पुष्कर धामी

बाबा केदारनाथ के दर सीएम पुष्कर धामी, यात्रा के दौरान किया निर्माण कार्यों का निरीक्षण

देहरादून | Pushkar Singh Dhami At Kadarnath Dham:  उत्तराखंड की चारधाम यात्रा (Chardham Yatra 2022) 3 मई से शुरू होने जा रही है। जिसके लिए चल रही तैयारियों को जायजा लेने आज सीएम पुष्कर धामी बाबा केदारनाथ के दौरे पर है। सीएम धामी मंगलवार सुबह हेलीकॉप्टर के जरिए केदारनाथ धाम पहुंचे और बाबा केदारनाथ मंदिर की दहलीज पर ढोक लगाई और बाबा का आशीर्वाद लिया इस दौरान सीएम धामी ने परिसर का दौरा किया।

ये भी पढ़ें:- पंजाब में पुल से नहर में गिरी कार, 5 लोगों की दर्दनाक मौत, एक ने तैरकर बचाई जान

निर्माण कार्यों का किया निरीक्षण
Pushkar Singh Dhami At Kadarnath Dham:  कोरोना महामारी के कारण दो सालों से बंद चारधाम यात्रा इस बार 3 मई शुरू होने जा रही हैं। जिसके चलते उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी यात्रा शुरू होने से पहले केदारनाथ धाम में चल रहे सभी निर्माण कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करवाने में लगे हैं ताकि, यात्रा के दौरान किसी भी श्रद्धालु को कोई परेशानी नहीं उठानी पड़े। ऐसे में सीएम ने आज बाबा केदारनाथ धाम में चल रहे निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया। सीएम धामी ने केदारनाथ धाम रवाना होने से पहले कहा कि, पीएम के नेतृत्व में यहां लगातार 3 चरणों का काम चल रहा है और आगे का काम भी जारी है। निर्माण कार्यों और चारधाम यात्रा की तैयारियों का जायज़ा लेने के लिए मैं केदारनाथ धाम वहां जा रहा हूं।

प्रसिद्ध कालीमठ मंदिर के करेंगे दर्शन
सीएम धामी अपनी इस यात्रा के दौरान आज जिले के सिद्धपीठ प्रसिद्ध कालीमठ मंदिर के दर्शन करने भी जाएंगे। दो सालों बंद चारधाम यात्रा में इस बार बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने के आसार जताए जा रहे हैं। क्योंकि, देश में फिलहाल कोरोना से राहत मिली हुई है।

ये भी पढ़ें:- पश्चिम बंगाल पुलिस ने मिटाई यूपी पुलिस की चिंता! 5 लाख के इनामी सपा नेता भाईयों को किया गिरफ्तार

Leave a comment

Your email address will not be published.

2 + 20 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
‘अग्निपथ योजना’ के विरोध के पीछे कौन?
‘अग्निपथ योजना’ के विरोध के पीछे कौन?