राजस्थान में कांग्रेस ने चार नगर निगमों में बनाया अपना बोर्ड

जयपुर। राजस्थान की राजधानी जयपुर तथा जोधपुर एवं कोटा में छह नगर निगमों के चुनाव में सत्तारुढ़ कांग्रेस ने चार निगमों में बोर्ड बनाकर अपना राजनीतिक दबदबा कायम किया है और वह शहर की सरकार बनाने में बाजी मार ली।

नगर निगमों में अपना दबदबा रखने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को इस बार इन छह निगमों में केवल दो में ही बोर्ड बनाने में सफलता हाथ लगी हैं। तीनों जिलों में दो-दो नगर निगम बनने के बाद हुए पहले चुनाव में ही कांग्रेस ने बाजी मार ली और जयपुर हैरिटेज, जोधपुर उत्तर एवं कोटा उत्तर एवं दक्षिण नगर निगम में अपना बोर्ड बनाने में कामयाब रही।

इन चारों जगहों पर कांग्रेस के महापौर निर्वाचित हुए हैं। इस तरह शहर की सरकार बनाने में कांग्रेस आगे रही। जयपुर हैरिटेज नगर निगम में कांग्रेस की मुनेश गुर्जर को निगम की पहली महापौर बनने का सौभाग्य मिला हैं। महापौर चुनाव में श्रीमती गुर्जर ने भाजपा उम्मीदवार कुसुम यादव को 12 मतों से हराकर महापौर निर्वाचित हुई। मुनेश गुर्जर का 56 एवं श्रीमती यादव को 44 वोट मिले। सौ सीट वाले हैरिटेज नगर निगम चुनाव में कांग्रेस को 49 एवं भाजपा को 42 तथा नौ निर्दलीय पार्षदों ने चुनाव जीता।

इसी तरह मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह नगर जोधपुर में दो नगर निगम चुनावों में कांग्रेस ने जोधपुर उत्तर नगर निगम में बाजी मारी। इसमें कांग्रेस की उम्मीदवार कुंती परिहार ने भाजपा प्रत्याशी संगीता सोलंकी को 42 मतों के बड़े अंतर से हराया। इस चुनाव में कुंती को 61 एवं संगीता को केवल 19 पार्षदों का समर्थन मिला। कुंती परिहार उत्तर नगर निगम की पहली महापौर बनी है।

इसके अलावा कांग्रेस कोटा के दोनों निगमों में बोर्ड बनाने में कामयाब रही। कोटा उत्तर नगर निगम में कांग्रेस की मंजू मेहरा महापौर चुनी गई। वह भी निगम की पहली मेयर बनी है। उन्हें 50 मत हासिल हुए वहीं भाजपा प्रत्याशी संतोष बैरवा को केवल 19 पार्षदों का समर्थन हासिल हुआ। हालांकि एक मत खारिज हो गया। इसी प्रकार कोटा दक्षिण नगर निगम में दोनों पार्टियों की स्थिति बराबर थी और यहां भी कांग्रेस ने बाजी मार ली और वह अपना बोर्ड बनाने में सफल रही।

कोटा दक्षिण में कांग्रेस प्रत्याशी राजीव अग्रवाल को 41 मत मिले जबकि भाजपा प्रत्याशी विवेक राजवंशी ने 39 मत हासिल किये। इस चुनाव में आठ निर्दलीयों के सहारे दोनों ही प्रमुख पार्टियां अपनी अपनी जीत का दावा कर रही थी लेकिन आखिर में जीत कांग्रेस के पाले में गई। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि एक वोट उन्हें भाजपा पार्षद का भी मिला हैं।

महापौर के चुनाव में भाजपा को जयपुुर ग्रेटर नगर निगम एवं जोधपुर दक्षिण नगर निगम में ही अपना बोर्ड बनाकर संतोष करना पड़ा। जयपुर ग्रेटर में भाजपा की सौम्या गुर्जर ने कांग्रेस की दिव्या सिंह को 44 वोट से हराया। सौम्या गुर्जर को 97 वोट मिले जबकि दिव्या ने 53 मत हासिल किये। इसी तरह जोधपुर दक्षिण नगर निगम में भाजपा की वनिता सेठ महापौर निर्वाचित हुई। वनीता को 45 मत मिले जबकि पूजा ने 35 वोट प्राप्त किये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares