फिर सामने आई कांग्रेस की फूट! अब यहां दिखा विधायक और मंत्री के बीच तनाव, बैठक में नहीं पहुंचा एक भी जनप्रतिनिधि - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

फिर सामने आई कांग्रेस की फूट! अब यहां दिखा विधायक और मंत्री के बीच तनाव, बैठक में नहीं पहुंचा एक भी जनप्रतिनिधि

जयपुर। राजस्थान में एक बार फिर से शुरू हुई सियासी जंग (Rajasthan Political Crisis) बढ़ती जा रही है. सरकार के मंत्री और विधायकों के अंदर दबी चिंगारी एक-एक करके बाहर आ रही है. लंबे समय से अंदर ही अंदर कुलते रहने के बाद अब विधायकों का सब्र खत्म होता जा रहा है और धीरे-धीरे सब अपनी व्यथा उजागर करने में लगे है. गुड़ामालानी विधायक हेमाराम चौधरी (Hemaram Choudhary) का मामला क्या सामने आया, अब तो हर रोज किसी न किसी विधायक का बयान सामने आने लगा है. अब राज्य के प्रतापगढ़ जिले में विधायक रामलाल मीणा (Ramlal Meena) और जिले के प्रभारी और जनजाति मंत्री अर्जुन बामनिया (Arjun Bamniya) के बीच का विवाद खुलकर सामने आया है. मंत्री जी के खिलाफ गुस्सा और नाराजगी ऐसी की कोविड महामारी (Coronavirus) को लेकर जिले के दौरे पर पहुंचे मंत्री जी के कार्यक्रम में जिला कांग्रेस का एक भी जनप्रतिनिधि शामिल होने नहीं आया. जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चा शुरू हो गई.

अपने दौरे के वक्त मंत्री बामनिया ने जिला अस्पताल का निरीक्षण कर जिला अधिकारियों की बैठक ली. बैठक में भी जन प्रतिनिधियों के साथ प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा (MLA Ramlal Meena) और जिला प्रमुख इंदिरा मीणा (Indra Meena) की भी नाराजगी ऐसी दिखी की वे भी बैठक से नदारद रहे. बार-बार फोन करने के बाद भी कोई भी कोई भी जनप्रतिनिधि बैठक में नहीं पहुंचा.

ये भी पढ़ें:- Rajasthan में अब इस विधायक ने खोला मोर्चा! Sachin Pilot को बताया अपना मार्गदर्शक, कहा- हाथ पकड़कर बढ़ाया आगे

विधायक रामलाल मीणा भी नाराज
इस मामले में प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा भी प्रभारी मंत्री से खासे नाराज दिखाई दिए और आरोप लगाया कि है कि जिले के प्रभारी मंत्री होने के बावजूद भी कोरोना जैसी विकट महामारी (Covid epidemic) के समय में भी प्रभारी मंत्री ने जिलेवासियों का एक बार भी हाल-चाल नहीं पूछा और अब, जब महामारी कम हुई है तब मात्र औपचारिकता पूरी करने के लिए पहुंचे हैं. इससे क्षेत्र की जनता और जनप्रतिनिधियों में उनके खिलाफ जबरदस्त आक्रोश है.

ये भी पढ़ें:- Rajasthan में सियासी संग्राम पकड़ने लगा जोर, Sachin Pilot के बयान पर डोटासरा ने किया पलटवार

विकास के लिए एक रुपया तक नहीं दिया
विधायक मीणा ने मंत्री जी पर भेदभाव के आरोप लगाते हुए कहा कि आदिवासी जिला होने के बावजूद जिले के प्रभारी और जनजाति मंत्री ने पिछले ढाई साल में जिले के विकास के लिए एक भी पंचायत को एक रुपया तक नहीं दिया है. वहीं विधायक मीणा इस मामले को हेमाराम चौधरी (Hemaram Choudhary) के इस्तीफे से अलग बताया है.

ये भी पढ़ें:- Rajasthan: आखिर Sachin Pilot ने तोड़ी चुप्पी, Hemaram के इस्तीफे पर बोले- हेमाराम ने अपने खून से सींचा है पार्टी को

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *