कोरोना : दिल्ली सरकार को सहयोग की पेशकश - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

कोरोना : दिल्ली सरकार को सहयोग की पेशकश

नई दिल्ली। दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति ने राजधानी में कोरोना वायरस से ग्रसित रोगियों के इलाज के लिए ढ़ांचागत सुविधाएँ मजबूत करने तथा गुरुद्वारा मजनू का टीला में बीस बिस्तरों की सराय को आइसोलेशन वार्ड तथा क्वारंटीन सुविधाएँ स्थापित करने के लिए केजरीवाल सरकार को प्रदान करने की पेशकश की है।

समिति के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने मुख्यमन्त्री अरविन्द केजरीवाल को लिखे पत्र में यह पेशकश करते हुए कहा कि 20 बिस्तरों की सराय में प्रत्येक कमरे में अलग से टॉयलेट एवं बाथरूम अटैच किये गए है तथा सभी कमरों में एयर कंडीशन /एयर कूल सुविधाएं भी हैं। यह सराय यमुना नदी के तट पर बनी गुरद्वारा परिसर के अन्दर है तथा पूरी तरह से सुरक्षित एवं मेडिकल सुविधाएं प्रदान करने के लिए उपयुक्त है।

उन्होंने कहा की इसके अलावा सभी मेडीकल स्टाफ, डॉक्टर, नर्सों आदि के लिए गुरद्वारा समिति अलग से आवासीय तथा कार्यालय की सुविधाएं प्रदान करेगी। उन्होंने कहा की गुरद्वारा समिति सराय में दाखिल सभी रोगियों और इलाज में तैनात मेडिकल कर्मचारियों को मुफ्त लंगर सुविधा तथा मुफ्त पार्किंग सुविधा उपलब्ध कराएगी।

इसे भी पढ़ें :- दिल्ली हाईकोर्ट ने एटीसी के लिए सांस जांच पर रोक लगाई

उन्होंने कहा की इस संकट की घड़ी में समाज के गरीब तबके के लोगों को मुफ्त भोजन उपलब्ध करवाने के लिए गुरद्वारा समिति ने दिल्ली सरकार तथा इसके इलाज से जुडी संस्थाओं को दस लाख खाने के पैकेट प्रदान करने का फैसला किया है ताकि सिख समाज अपने गुरु साहिबानों की शिक्षाओं का अनुसरण करते हुए धर्म जाति ,सम्प्रदाय की दीवारों से ऊपर उठ कर मानवता की सेवा कर सके।

उन्होंने बताया की देश में कोरोना संक्रमण के बाद गुरद्वारा समिति ने राजधानी दिल्ली में सभी जरूरतमन्दों को लंगर तथा अन्य सुविधाएँ प्रदान करने की पहल और वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए समिति ने अनेक कदम उठाये हैं जिसके तहत सभी गुरद्वारा परिसरों को चिकित्सा मापदण्डों के अनुरूप साफ-सफाई का स्तर बनाने के लिए कहा गया है तथा गुरद्वारा में आने वाले श्रद्धालुओं को साबुन से हाथ धोने की पर्याप्त व्यवस्था की गई है।

Latest News

बूचड़खानों पर रोकः बुनियादी सवाल ?
उत्तराखंड की सरकार ने हरिद्वार में चल रहे बूचड़खानों पर रोक लगा दी थी। वहां के उच्च न्यायालय ने इस रोक को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});