देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट

Corona Crisis: बिना जरूरत मरीजों को कर रखा था भर्ती, जांच हुई तो 200 बेड हुए खाली

Noida: एक ओर जहां देश में कोरोना कहर बरसा रहा है . वहीं देश के कुछ ऐसे निजी अस्पताल संचालक भी हैं जो इस आपातकाल स्थिति में भी कमाई करने में लगे हुए हैं.  ऐसा ही एक मामला नोएडा से सामने आया है. जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन को लगातार ऐसी खबरें मिल रही थी कि जिले के कई निजी अस्पतालों में ऐसे मरीजों को भर्ती किया जा रहा था जिन्हें भर्ती करने की जरूरत नहीं थी. मिल रही शिकायतों की सच्चाई जानने के लिए जिला प्रशासन की ओर से एक टीम को अस्पतालों के निरीक्षण करने के लिए भेजा गया.  जिसके बाद सारी सच्चाई सामने आ गई.

200 बेड करवाए गए खाली

अस्पतालों की जांच के लिए निकली जिला प्रशासन की टीम ने पाया कि निजी अस्पतालों में कई ऐसे मरीजों को भर्ती करके रखा गया है जिन्हें वास्तव में बेड की आवश्यकता नहीं है ही नहीं.  जिला प्रशासन ने अस्पताल की इस हरकत के लिए फटकार लगाते हुए कहा कि ऐसे अस्पतालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी . इसके साथ ही यथासंभव जुर्माना भी वसूला जाएगा.  जांच करने निकली टीम ने करीब 200 ऐसे मरीजों को घर भेज दिया जिन का इलाज घर से संभव था और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता नहीं थी.

इसे भी पढें- Corona ने सिखाई एकजुटता, पाकिस्तान में भारत के कोरोना हालातों पर संवेदनाएं कर रही है Trend

जरूरतमंदों को उपलब्ध कराया गया बेड

जिला प्रशासन की ओर से जांच अभियान के बाद खाली कराए गए बेडों को जरूरतमंदों को उपलब्ध कराया गया.  प्रशासन की टीम ने पहले से मरीजों की लिस्ट तैयार कर रखी थी जिन्हें बेड की सख्त आवश्यकता थी. ऐसे में निजी अस्पतालों द्वारा अनावश्यक रूप से मरीजों को रखने और बेड बुकिंग में आ रही गड़बड़ी की आशंकाओं की जांच के बाद कई मरीजों को बेड मिलने से राहत पहुंची है.  जिला प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि ऐसे आपातकाल में पैसों के लिए गड़बड़ी करने वाले अस्पतालों के खिलाफ आने वाले समय में सख्त कार्रवाई की जाएगी.  हम अभी से ऐसे अस्पतालों की लिस्ट तैयार कर रहे हैं.

इसे भी पढें-   Corona Crisis: यहां शमशान में नहीं बची लकड़ी तो गन्ने की खोई प्रयोग कर किया जाने लगा अंतिम संस्कार

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *