nayaindia Teachers Inviting through loudspeakers : सब्जी वालों से किया जा रहा है संपर्क...
ताजा पोस्ट | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Teachers Inviting through loudspeakers : सब्जी वालों से किया जा रहा है संपर्क...

अजब-गजब : ऑनलाइल क्लासेज में नहीं हो रही थी उपस्थिति तो लाउडस्पीकर लेकर बुलाने निकल पड़े शिक्षक ….

नई दिल्ली | Teachers Inviting through loudspeakers : कोरोना और लॉकडाउन के कारण देश में सबसे ज्यादा प्रभावित कुछ हुआ है तो वो है भारत की शिक्षा व्यवस्था. पिछले 2 सालों से स्कूलों और कॉलेजों में ताले लटके ही दिखाई दिये हैं. हालांकि बीच में एक ऐसा दौर भी आया जहां कुछ समय के लिए सबकुछ खुल गया था, उस समय लग रहा था कि अब कुछ दिनों में हालात सामान्य हो जाएंगे लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के काऱण एक बार फिर से स्थितियां वहीं पहुंच गई है. अब जब कोरोना की दूसरी लहर से कुछ राहत मिली है तो लोगों को उम्मीदें एक बार फिर से जाग गई हैं, देश की राजधानी दिल्ली में हालात कुछ ऐसे बन गए हैं कि लॉकडाउन के बाद ढूंढने से भी छात्र नहीं मिल रहे हैं. अब परेशानियों से निपटने के लिए राजधानी के सरकारी स्कूलों ने एक नई मुहिम चलाई है. दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 8 के सर्वोदय विद्यालय के शिक्षकों द्वारा गांव के आसपास की झुग्गी झोपड़ियों में जाकर लाउडस्पीकर से बच्चों को बुलाया जा रहा है. शिक्षकों की यह मुहिम सोशल मीडिया में भी तेजी से वायरल हो रही है और लोग इसे काफी पसंद कर रहे हैं.

Teachers Inviting through loudspeakers :

सब्जी और फल बेचने वालों से किया जा रहा है संपर्क

Teachers Inviting through loudspeakers : शिक्षक और स्कूल के कर्मचारी ना सिर्फ लाउडस्पीकर से बच्चों की तलाश कर रहे हैं बल्कि उनके संबंध में पूछताछ भी कर रहे हैं. सर्वोदय विद्यालय के एक शिक्षक से पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि हम गांव के फल और सब्जी वालों से स्कूल आने वाले बच्चों के विषय में पता लगा रहे हैं. उन्होंने बताया कि इसके लिए हम लाउडस्पीकर का भी प्रयोग कर रहे हैं ताकि एक बार फिर से गांव में शिक्षा की मुहिम चलाई जा सके. उन्होंने कहा कि कई बच्चे ऑनलाइन क्लास से गायब हैं. शिक्षक ने बताया कि आधे से ज्यादा बच्चे ऑनलाइन क्लास नहीं कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि आखिर बच्चे क्लास क्यों नहीं कर पा रहे हैं यह समझने के लिए ही हम मुहिम चलाई गई है.

इसे भी पढ़ें- बाप नहीं ये तो पाप है ! अपने 3 बच्चों को आइसक्रीम में जहर मिलाकर खिला दिया, एक की मौत

Teachers Inviting through loudspeakers :

ज्यादातर बच्चे कामकाज में लगे

Teachers Inviting through loudspeakers : शिक्षक से बात करने पर उन्होंने बताया कि कोरोना और लॉकडाउन की मार देश के गरीब परिवारों को ज्यादा झेलनी पड़ी है. उन्होंने बताया कि गांव में घूमने के दौरान उन्हें पता चला कि कई ऐसे छात्र हैं जो ऑनलाइन क्लासेज छोड़कर मां बाप के कामों में हाथ बंटा रहे हैं. उन्होंने बताया कि घर की आर्थिक स्थिति को देखते हुए अभिभावक भी बच्चों से काम करवाने के लिए मजबूर हो गए हैं. उन्होंने बताया कि सरकार को इस विषय में सोचना चाहिए क्योंकि अगर यही हालात रहे तो एक बार फिर से अशिक्षा का अंधकार हो सकता है. उन्होंने बताया कि जहां शुरुआत में करुणा की पहली लहर के दौरान 60 से 70% अटेंडेंस होता था वहीं अब 20% विद्यार्थी भी नहीं जुड़ पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- good news : भारत में 12 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों के लिए आई वैक्सीन, DGCI से मांगी आपात इस्तेमाल की मंजूरी

Leave a comment

Your email address will not be published.

seven − 5 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कोरोना की तरह लम्पी वायरस का कहर
कोरोना की तरह लम्पी वायरस का कहर