nayaindia गुजरात High Court की सलाह के बाद राज्य के 20 शहरों में रात का कर्फ्यू - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

गुजरात High Court की सलाह के बाद राज्य के 20 शहरों में रात का कर्फ्यू

गांधीनगर। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बढ़ाने के कारण गुजरात में 3-4 दिनों के लिए Lockdown या Curfew लगाने की गुजरात हाईकोर्ट (Gujarat High Court) की सलाह के बाद, गुजरात सरकार ने घोषणा कर कहा कि रात के Curfew को 20 अन्य शहरों में रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक 30 अप्रैल तक लगाया जाएगा।

गुजरात (Gujarat) के चार प्रमुख शहरों में रात का Curfew पहले से ही लगा हुआ है। विशेष रूप से राज्य की वित्तीय राजधानी, अहमदाबाद (Ahmedabad) और डायमंड सिटी सूरत (Surat) में Corona Virus मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है। यहां तक कि गुजरात उच्च न्यायालय (Gujarat High Court) ने भी सरकार को सप्ताहांत पर 3-4 दिन का Lockdown या Curfew लगाने की सलाह दी। यहां कल Corona Virus के 3,280 मामले सामने आए थे।

इसे भी पढ़ें :-Corona के बढ़ते मामलों के कारण फिर से पलायन की तैयारी कर रहे मुंबई के प्रवासी मजदूर

गुजरात सरकार (Gujarat Government) ने 30 अप्रैल तक राजनीतिक या सामाजिक समारोहों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है और विवाह में शामिल होने वाले लोगों की संख्या 200 से घटाकर 100 कर दी है। अन्य सभाओं को भी अधिकतम पचास तक सीमित कर दिया गया है।

Gujarat के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी (Vijay Rupani) ने कल देर शाम एक उच्चस्तरीय कोर कमेटी की बैठक की अध्यक्षता की, जहां रात में Curfew लगाने का निर्णय लिया गया। CM ने कहा, उच्च न्यायालय (High Court) ने कुछ सुझाव दिए और हमने इस पर फैसला किया है। इससे पहले हमने राज्य के चार प्रमुख शहरों में Curfew लगा दिया था। अब हमने 20 अन्य शहरों में भी कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है।

Chief Minister ने यह भी बताया कि केंद्र सरकार Gujarat में चिकित्सा विशेषज्ञों की एक टीम भेजेगी, जो राज्य सरकार को मामलों में वृद्धि की जांच करने के लिए रणनीति तैयार करने में मदद करेगी। अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट के अलावा जहां रात का Curfew लागू है, वे शहर जामनगर, भावनगर, जूनागढ़, गांधीनगर, आनंद, नडियाद, मेहसाणा, मोरबी, दाहोद, पाटन, गोधरा, भुज, गांधीधाम, भरूच, सुरेंद्रनगर और अमरेली शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें :-Corona के बढ़ते मामलों के कारण फिर से पलायन की तैयारी कर रहे मुंबई के प्रवासी मजदूर

Leave a comment

Your email address will not be published.

4 × three =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आजमगढ़ का चुनाव अलग होता है
आजमगढ़ का चुनाव अलग होता है