कोरोना: 5 या इससे अधिक व्‍यक्तियों के इ‍कट्ठा होने पर रोक - Naya India
ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

कोरोना: 5 या इससे अधिक व्‍यक्तियों के इ‍कट्ठा होने पर रोक

जयपुर। राजस्थान सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये निषेधाज्ञा के तहत अब पांच या इससे ज्‍यादा व्‍यक्तियों के इ‍कट्ठा होने पर रोक लगा दी है और इसके उल्‍लंघन पर भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 188 के तहत कार्रवाई के निर्देश दिये हैं।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने सोमवार को बताया कि सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने और लोगों की सुरक्षा के लिये निषेधाज्ञा के तहत अब 20 लोगों की जगह पांच या इससे अधिक व्यक्तियों के इकट्ठा होने पर रोक लगा दी है।

उन्होंने बताया कि इसका उल्‍लंघन करने पर भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार ने लॉकडाउन जैसे कड़े कदम उठाये हैं लेकिन मैंने देखा है कि लोगों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। प्रधानमंत्री ने स्वयं कहा है कि लॉकडाउन को कड़ाई से लागू किया जाना चाहिए ताकि प्रशासन और लोगों को लगे की इसकी अनुपालना हो रही है।” शर्मा ने कहा कि राज्य में किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए पृथक रहने की सुविधा हेतु जिलों में एक लाख बिस्तर चिह्नित किए गए है और इस हेतु निजी होटलों, अस्‍पतालों एवं छात्रावासों का उपयोग किया जायेगा और इन स्‍थलों पर आवास एवं भोजन की व्‍यवस्‍था होगी।

उन्होंने सोशल मीडिया पर भ्रामक सूचनाएं देने वालों तथा निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने पर सख्त कार्रवाई अमल में लाने के निर्देश दिए। राज्य में सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने तथा निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने पर 29 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि मास्क, सैनेटाइजर और खाद्य सामग्री का भंडारण ओर कालाबाजारी भी दंडनीय अपराध है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने कोविड—19 राहत फंड स्थापित किया है जिसमें वायरस से निपटने में मदद करने के लिये लोग दान कर सकते हैं।

नर्सिंग और पराचिकित्सक परिषद ने 11—11 लाख रूपये का योगदान दिया है जबकि मेडिकल और फार्मेसी काउंसिल ने पांच -पांच लाख रूपये का योगदान दिया है। चिकित्सक संघ से जुड़े लोगों ने अपना एक दिन का वेतन देने का निर्णय लिया है। कई जनप्रतिनिधियों ने भी इसमें अपना अपना योगदान दिया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी सोमवार को निर्णय लिया कि मंत्रिमंडल के सभी सदस्य एक एक लाख रूपये का इसमें योगदान देंगे और कांग्रेस के सभी विधायक एक महीने का वेतन इस फंड में देंगे। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दो माह का वेतन दान करने की घोषणा की है।

राजे ने ट्वीट किया कि कोविड—19 को रोकने के लिये वह अपना दो माह का वेतन मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री राहत कोष में दान कर रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘इसके अतिरिक्त मैंने एक लाख रूपये मेरे विधायक कोष से मरीजों की सहायता के लिये दिए हैं। इसका उपयोग आवश्यकता के अनुसार दवाइयां खरीदने के लिये किया जा सकेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
आईपीएल 2021: आज वानखेड़े स्टेडियम में पंजाब का सामना राजस्थान रॉयल्स से, जानें कौन किस पर पड़ेगा भारी
आईपीएल 2021: आज वानखेड़े स्टेडियम में पंजाब का सामना राजस्थान रॉयल्स से, जानें कौन किस पर पड़ेगा भारी