लोकसभा में ओबीसी की जनगणना कराने की मांग की

नई दिल्ली। लोकसभा में शुक्रवार को सत्ता पक्ष एवं विपक्ष के कई सांसदों ने सरकार से मांग की कि देश में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) की जनगणना कराई जानी चाहिए ताकि योजनाएं बनाने में मदद मिल सके।

सदन में वर्ष 2020-21 के लिए सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के नियंत्रणाधीन अनुदानों की मांगों पर चर्चा के दौरान भाजपा के गणेश सिंह ने सरकार से मांग की कि देश में अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) की जनगणना कराई जानी चाहिए और ओबीसी की जनसंख्या के अनुपात में बजट में अलग से सब-प्लान बनाया जाना चाहिए।

सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने कभी ओबीसी की जनगणना नहीं होने दी। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार ने ओबीसी की जनगणना कराने का आश्वासन दिया था लेकिन अभी तक वह नहीं हो सका है। उन्होंने कहा, ‘‘ मैं केवल एक वर्ग की जनगणना की मांग कर रहा हूं, जातीय जनगणना की बात नहीं कर रहा।”

राकांपा के अमोल कोल्हे ने भी 2021 की जनगणना में जाति आधारित जनगणना कराने पर जोर देते हुए कहा कि अन्य पिछड़ा वर्ग की अलग से गणना होनी चाहिए।  भाजपा की प्रीतम मुंडे ने कहा कि अन्य पिछड़ा वर्ग की जनगणना अलग से किये जाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि समाज में ओबीसी समुदाय के लोगों की संख्या कितनी है, यह पता होना चाहिए तभी इसके अनुरूप योजनाएं बनाई जा सकेंगी। उन्होंने कहा कि ओबीसी की जनगणना होने से आरक्षण तय करने में भी मदद मिलेगी। मुंडे ने ओबीसी वर्ग का बजट बढ़ाने की भी मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares