रघुवर सरकार में भ्रष्टाचार की नीयत से ही चलाए गए विकास कार्यक्रम : सरयू -
ताजा पोस्ट| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%%

रघुवर सरकार में भ्रष्टाचार की नीयत से ही चलाए गए विकास कार्यक्रम : सरयू

रांची। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से बागी होकर तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास को जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र में धूल चटाने वाले विधायक सरयू राय ने एक बार फिर झारखंड की पूर्ववर्ती रघुवर सरकार पर हमला बोला और कहा कि राज्य में पिछले पांच साल में भ्रष्टाचार की नीयत से ही विकास के कार्यक्रम चलाए गए।

पूर्व मंत्री राय ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को संबोधित करते हुए ट्वीट किया, भाजपा अध्यक्ष शाह पिछले पांच वर्षों में झारखंड के विकास की असलियत पता करें तब इस बारे में मीडिया में बोलें।

इन दिनों यहां केवल विकास कार्यक्रमों को लागू करने में ही भ्रष्टाचार नहीं हुये है बल्कि भ्रष्टाचार करने की नीयत से ही विकास कार्यक्रम चलाये गये हैं। अपने लोगों से ही पूछ लें। राय ने सवालिया लहजे में कहा कि क्या शाह को पता नहीं था कि झारखंड सरकार के 30 विभागों में से उनके लाडले मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 16 विभाग अपने पास रखे थे, जिनमें बड़े और मलाईदार कहे जाने वाले सभी विभाग शामिल थे। उन्होंने कहा कि दास ने संविधान को ताक पर रखकर 11 में से एक मंत्री का पद पांच वर्ष तक खाली रखा क्यों।

विधायक ने ताबड़तोड़ किए गए तीसरे ट्वीट में कहा, शाह को खुलासा करना चाहिये कि पिछले पांच वर्षों तक झारखंड में सरकार और संगठन की खस्ताहाल के बारे में उन्हें कौन गुमराह करते रहा और मुझे नुकसान पहुंचाने के षड्यंत्र में भाजपा को ही गर्त में पहुंचा दिया। वर्ष 2009 में भी ऐसा ही हुआ था तब तो सबक नहीं लिया, अब तो चेतिये।

इसे भी पढ़ें :-सपा, कांग्रेस में सीएए के विरोध का श्रेय लेने की होड़

गौरतलब है कि भाजपा के बागी नेता सरयू राय इस बार के विधानसभा चुनाव में जमशेदपुर पूर्व में तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास को 15833 मतों से पराजित करने के बाद से भाजपा सरकार के खिलाफ लगातार हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। चुनाव परिणाम के बाद राय ने राज्य की कार्यवाहक रघुवर दास सरकार पर कई विभाग की महत्वपूर्ण फाइलों को जलाए जाने का आरोप लगाया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *