मंदिर निर्माण पर संतों के बीच मतभेद उजागर - Naya India
ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

मंदिर निर्माण पर संतों के बीच मतभेद उजागर

अयोध्या। राममंदिर के पक्ष में भले ही सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया है, लेकिन अभी ट्रस्ट बनाने को लेकर संतों के बीच आपस में ही कई मतभेद खुलकर सामने आने लगे हैं। रामालय न्यास ट्रस्ट के सचिव अविमुक्ते श्वरानंद ने विहिप पर राममंदिर को लेकर टिप्पणी की थी, जिस पर विहिप ने पलटवार किया है।

विहिप के मीडिया प्रमुख शरद शर्मा ने कहा, “जो लोग राम मंदिर आंदोलन में रोड़ा अटकाने में लगे रहे, वे अब अयोध्या का फैसला आने के बाद राम जन्मभूमि पर सोने का मंदिर बनाने का हवाई बयान दे रहे हैं।”

शर्मा ने कहा कि मंदिर संघर्ष के दौरान जिनका नामोनिशान नहीं था, ऐसे लोग अब कोर्ट का फैसला पक्ष में आने के बाद बिना किसी तैयारी के राममंदिर निर्माण के लिए दावेदारी पेश करने अयोध्या पहुंच रहे हैं।

उन्होंने कहा, “अयोध्या में सोने का मंदिर बनाने की बात वे(अविमुक्ते श्वरानंद) किस हक से कर रहे हैं? उनको इसका अधिकार किसने दिया है? 30 साल पहले पौने दो लाख गांवों के लोगों ने सवा-सवा रुपये दान देकर मंदिर निर्माण की मंशा जाहिर की थी। शिलाओं को पूजित कर यहां पहुंचाया। उनके दान से ही राम मंदिर कार्यशाला बनी।”

इसके अलावा जगतगुरु वासुदेवानंद सरस्वती ने रामालय ट्रस्ट के दावों को खारिज करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि भारत सरकार ट्रस्ट बनाए और वही ट्रस्ट मंदिर का निर्माण करेगा। उसी के अनुसार ट्रस्ट का गठन किया जाएगा। उन्होंने कहा, “रामालय ट्रस्ट एक व्यक्तिगत संस्था है, उसका हिंदू समाज से कोई संबंध नहीं है। वह एक राजनैतिक स्पर्धा है।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
UAE में अबुधाबी एयरपोर्ट पर ड्रोन के जरिए बड़ा हमला, धमाकों में 2 भारतीयों समेत तीन की मौत, कई घायल
UAE में अबुधाबी एयरपोर्ट पर ड्रोन के जरिए बड़ा हमला, धमाकों में 2 भारतीयों समेत तीन की मौत, कई घायल