• डाउनलोड ऐप
Thursday, May 13, 2021
No menu items!
spot_img

Corona Crisis: दवा और चिकित्सा उपकरण के क्षेत्र में निवेश के लिए भारत ने अमेरिकी दवा कंपनियों से किया संपर्क

Must Read

New Delhi: भारत मेें कोरोना की दूसरी लहर से सबकुछ अस्त व्यस्त हो गया है. भारत सरकार ने अब  भारत ने अमेरिका की शीर्ष दवा कंपनियों से संपर्क कर देश में दवा एवं चिकित्सा उपकरण क्षेत्र में निवेश का अनुरोध किया. माना जा रहा है कि  कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण इस क्षेत्र में  आपात जरूरत की स्थिति पैदा हो गयी है. यहीं कारण है कि कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण अब दवा के क्षेत्र में निवेश की जरुरत है.  अमेरिका के लिए भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू ने फाइजर कंपनी के सीईओ अल्बर्टा बुर्ला, मार्क कैस्पर के सीईओ थर्मो फिशर, एंटीलिया साइंटिफिक के चेयरमैन और सीईओ बर्न्ड ब्रस्ट और पाल लाइफ साइंसेज के सीईओ जोसेफ रेप के साथ डिजिटल बैठक की. उन्होंने साइटिवा के सीईओ एवं अध्यक्ष एमैनुएल लिंजर से भी बात की.

अमेरिकी कंपनियों को निवेश के लिए उपलब्ध कराएगा नए अवसर

दवा कंपनियों के साथ बातचीत के दौरान संधू ने इस बात का जिक्र किया कि भारत दवा निर्माण एवं चिकित्सकीय उपकरणों के क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देना चाहता है. उन्होंने कहा कि भारत ने हाल में एक उत्पादन आधारित प्रोत्साइन योजना शुरू की है जो अमेरिकी कंपनियों को निवेश के लिए नए अवसर उपलब्ध करायेगा.  पिछले सप्ताह बुर्ला के साथ बैठक के बाद संधू ने कहा था कि फाइजर भारत में टीका निर्माण समेत स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग कर सके और महामारी के प्रति हमारी जिम्मेदारी को मजबूती मिल सके, ऐसे कई मुद्दों पर बात हुई. बुर्ला ने सोमवार को कहा कि फाइजर भारत में कोविड-19 की गंभीर स्थिति को लेकर चिंतित है और उनकी कंपनी संभावित मदद के लिए हर संभव प्रयास कर रही है.

इसे भी पढें- IPL 2021: जानें, कब हो सकता है बचे हुए 31 मैचों का आयोजन, और क्या होगी शर्त

7 करोड़ डॉलर की दवाएं दान में देगी कंपनी 

फाइजर ने घोषणा की है कि  अगले 90 दिन में भारत में हर सरकारी अस्पताल में कोविड-19 के प्रत्येक मरीज की दवाओं तक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए कंपनी 7 करोड़ डॉलर मूल्य की अपनी दवाएं दान में देगी. थर्मो फिशर के CEO मार्क कैस्पर के साथ बैठक में संधू ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में कंपनी की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित किया. साथ ही कोविशील्ड टीका तथा रेमडेसिविर जैसी जरूरी दवाओं के लिए भारत को कच्चा माल उपलब्ध कराने का भी जिक्र किया. इसके अलावा संधू ने एंटीलिया साइंटिफिक के चेयरमैन और सीईओ बर्न्ड ब्रस्ट और पाल लाइफ साइंसेज के सीईओ जोसेफ रेप से भी बात कर दवा क्षेत्र में सहयोग तथा निवेश का अनुरोध किया .

इसे भी पढें- Mamta Banerjee Oath ceremony: तीसरी बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के तौर पर ममता बनर्जी ने ली शपथ,कहा- कोरोना से निपटना होगी प्राथमिकता

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

सुशील मोदी की मंत्री बनने की बेचैनी

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जब इस बार राज्य सरकार में जगह नहीं मिली और पार्टी...

More Articles Like This