मप्र कांग्रेस में राज्यसभा की सीट के लिए द्वंद

भोपाल। मध्य प्रदेश से राज्यसभा में किसे भेजा जाए इसको लेकर कांग्रेस में द्वंद छिड़ गया है, क्योंकि दावेदार दो हैं और विधायकों की संख्या बल के आधार पर सिर्फ एक सदस्य के निर्वाचित होने के आसार है। पार्टी अभी तक यह तय नहीं कर पाई है कि प्राथमिकता सूची में किसे पहले स्थान पर रखा जाए।

राज्य में राज्यसभा की तीन सीटें प्रभात झा, दिग्विजय सिंह और सत्यनारायण जटिया का कार्यकाल खत्म होने से रिक्त हुई हैं। इन सीटों के लिए 19 जून को मतदान होने वाला है।

इसके लिए कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और दलित नेता फूल सिंह बरैया को उम्मीदवार बनाया है, वहीं दूसरी ओर भाजपा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और अभी हाल ही में कांग्रेस से भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया तथा डॉक्टर सुमेर सिंह सोलंकी को मैदान में उतारा है।

राजनीतिक विश्लेषक शिव अनुराग पटेरिया का कहना है, विधानसभा में विधायकों की वर्तमान संख्या के आधार पर राज्यसभा में एक सदस्य को निर्वाचित होने के लिए 52 सदस्यों का समर्थन जरूरी है, इस स्थिति में भाजपा के पास दो सदस्यों के लिए पर्याप्त मतदाता है, क्योंकि विधानसभा में उसके 107 सदस्य हैं, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के पास 92 विधायक हैं इसलिए कांग्रेस को एक सीट मिलना तय है।

सूत्रों के अनुसार कांग्रेस के अंदर एक ऐसा धड़ा है जो दिग्विजय सिंह के स्थान पर फूल सिंह बरैया को राज्यसभा में भेजने की पैरवी कर रहा है और आगामी समय में होने वाले उपचुनाव के लिहाज से जरूरी भी मान रहा है। कांग्रेस के कुछ नेताओं ने पिछले दिनों एक बैठक भी की थी और उस बैठक में प्रस्ताव पारित कर पार्टी हाईकमान को सुझाव दिया गया था कि बरैया को राज्यसभा उम्मीदवारी की प्राथमिकता में पहले स्थान पर रखा जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares