Eid 2021: देशभर में आज मनाई जा रही Eid, कोरोना के खात्मे के लिए लोगों ने मांगी दुआं, जन्नती दरवाजा खुला भी खुला

Must Read

नई दिल्ली। अल्लाह की रहमत हासिल करने के लिए माह-ए-रमजान में रोजे रखकर ईबादत के बाद रोजेदारों का इंतजार आज शुक्रवार ईद-उल-फितर ( Eid-Ul-Fitar 2021 ) पर्व पर खत्म हो गया. भारत में आज ईद ( Eid 2021 ) मनाई जा रही है. इस्लामिक धर्मगुरूओं ने कोरोना की दूसरी लहर के चलते लोगों से ईद-उल-फितर अपने घरों में रहकर मनाने की अपील की है. लिहाजा इस बार लोग मस्जिदों में नहीं पहुंच रहे हैं. ज्यादातर लोग सोशल मीडिया पर ही एक दूसरे को ईद की बधाई दे रहे हैं. इस दौरान रोजदारों यहां अल्लाह की रहमत की बारिश के साथ ही घर-घर दिल भी मिलेंगे. साथ ही बड़े बुजुर्गों द्वारा बच्चों को ईदी भी दी जाएगी.

यह भी पढ़ेंः- Rajasthan COVID Update: राजस्थान में 24 घंटे में 159 मौतें, राजधानी जयपुर में फिर फूटा कोरोना बम

राजस्थान के चीफ काजी खालिद उस्मानी, जयपुर के मुफ्ती मोहम्मद जाकिर नोमानी और जामा मस्जिद के सदर नईमुद्दीन कुरेशी ने लोगों से घर में रहकर ईद मनाने की अपील की है. पिछले साल भी ईद का त्योहार लॉकडाउन ( Lockdown ) के दौरान ही मनाया गया था. शहर मुफ्ती ने घरों से नमाज के लिए घर पढ़ा जा सकने वाला एक छोटा ईद की नमाज का खुत्बा भी जारी किया है ताकि लोग आसानी से घरों से ही ईद की नमाज पढ़ सके. ईद की नमाज के लिये खुत्बा जरूरी होता है.

यह भी पढ़ेंः- G-7 Summit 2021: PM Narendra Modi डिजिटल माध्यम से जी-7 सम्मेलन में हो सकते हैं शामिल

जन्नती दरवाजा खुला, पर जियारत नहीं होगी
राजस्थान के अजमेर में स्थित विश्व प्रसिद्ध ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में शुक्रवार तड़के ईद-उल-फितर के मौके पर जन्नती दरवाजा खोला गया है. लाॅकडाउन के कारण दरगाह में आम जयरीन का प्रवेश फिलहाल बंद है. खादिमों की संस्था अंजुमन के चिव वाहिद हुसैन जन्नती दरवाजा शुक्रवार सुबह 4 बजे से दोपहर 2.30 बजे तक खुला रहेगा.

यह भी पढ़ेंः- Sputnik Vaccine: भारतीयों को अगले हफ्ते से लगाई जाएगी रूसी स्पूतनिक वैक्सीन! सिंगल डोज वाला है वर्जन

ईद पर देशवासियों को राष्ट्रपति की बधाई
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को ईद-उल-फितर की बधाई दी है. साथ ही उन्होंने आह्वान किया कि वे कोविड-19 को हराने के लिए नियमों और दिशानिर्देशों का अनुपालन करें. राष्ट्रपति ने अपने संदेश में कहा कि, ‘ईद-उल-फितर का पावन त्योहार रमजान के संपन्न होने पर भाईचारे और सदभावना के अवसर के रूप में मनाया जाता है.’ ईद-उल-फितर खुद को मानवता की सेवा की ओर मोड़ने और जरूरतमंद की जिंदगी को बेहतर बनाने के अवसर के तौर पर भी मनाया जाता है.

 

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पाकिस्तान का उदाहरण देकर वैक्सीन लगवाने की अपील की..

ऋषिकेश| पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद विवादों में बने रहते है। कभी ये...

More Articles Like This